चाचा निकला शातिर : भतीजे की हत्या की दी सुपारी, फिर अपने ही अपहरण की साजिश रच डाली

आरा (पुष्कर पांडेय) : एक शिक्षक चाचा ने पहले अपने भतीजे की हत्या की सुपारी दे दी. काम नहीं होने पर सुपारी लेनेवाले अपराधियों के खिलाफ अपने अपहरण का झूठा केस कर डाला. पुलिस को गुमराह करने की कोशिश भी की. लेकिन उसकी चालाकी नहीं चली और मामले का खुलासा हो गया. उसके खुलासे पर एक पल के लिए तो पुलिस भी स्तब्ध रह गयी.

नवादा थाने की पुलिस ने इस मामले का पटाक्षेप कर दिया और शिक्षक चाचा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. उसके साथ इस साजिश में संलिप्त एक आरोपी को भी पकड़ा गया है. मामला नवादा थाना क्षेत्र से जुड़ा हुआ है.

दरअसल सहार थाना क्षेत्र के सखुआ गांव निवासी नवल कुमार सिंह शिक्षक के पद से रिटायर कर चुके हैं. उनका अपने भाई नवल किशोर सिंह के साथ जमीन का पिछले कई सालों से विवाद चल रहा था. नवल किशोर सिंह का एक बेटा रोहन उन्हें जमीन को लेकर अक्सर तंग करता था. रोहन की अच्छी खासी पैठ शहर में हो गई है. इसी को लेकर उसके चाचा खुन्नस खाये हुए था.

थाना अध्यक्ष नेयाज अहमद के अनुसार जमीन विवाद खत्म नहीं हुआ तो रिटायर्ड शिक्षक नवल कुमार सिंह ने अपने ही भतीजे रोहन की हत्या की सुपारी कुख्यात दो अपराधियों को दे दी. जब सुपारी किलर ने भतीजे रोहन की हत्या नहीं की तो वह पैसा मांगने लगे. लेकिन अपराधियों ने उनके पैसे नहीं लौटाए. इस पर दोनों अपराधियों के विरुद्ध पुलिस कप्तान के जनता दरबार में आवेदन देकर अपने ही अपहरण करने की शिक्षक ने साजिश रची.

शिक्षक ने बताया कि दोनों अपराधियों ने मुझे बंधक बनाकर डेढ़ लाख का चेक जबरन ले लिया है. पुलिस कप्तान के निर्देश पर जब नवादा थाने के इंस्पेक्टर नेयाज अहमद में छानबीन शुरू की तो चौंकाने वाली बात सामने आने लगी. सबसे पहले उन्होंने नवादा के रहने वाले शुभम नाम के लड़के को हिरासत में लिया. शुभम जब पकड़ा गया तो पता चला कि जिस अपराधी पर शिक्षक नवल कुमार सिंह आवेदन देखकर अपहरण का मामला दर्ज कराया था, वही शिक्षक नवल कुमार सिंह वास्तव में अपने भतीजे रोहन की हत्या के लिए सुपारी दी थी.

हिरासत में लिये गये शुभम ने पुलिस को यह भी बताया कि मेरे घर पर एक युवक के साथ शिक्षक नवल कुमार सिंह स्वेच्छा से आए थे और डेढ़ लाख रुपए मेरे अकाउंट में चेक के जरिए दिया था. मेरे दोस्त ने मेरे अकाउंट से पैसा निकाल लिया है, मुझे नहीं मालूम था कि किस कारण मेरे पास लेकर आया था. लेकिन उसने जो पुलिस को बताया उस अनुसार रिटायर्ड शिक्षक नवल कुमार सिंह और दूसरा आरोपी साथ आया हुआ था. इसके बाद मामला सामने आते ही नवादा इंस्पेक्टर ने त्वरित कारवाई करते हुए रिटायर्ड शिक्षक को भी धर दबोचा. इसके कारण 24 घंटे के भीतर इस मामले का पटाक्षेप हो गया.

इसे भी पढ़ें : केरल JDU इकाई ने नीतीश कुमार से नाता तोड़ा, विधायकों से की साथ न देने की अपील 
रामचंद्र गुहा का बड़ा हमला, कहा – लालू यदि पैसे के भूखे तो नीतीश सत्ता के भूखे