घूस लेने के चक्कर में तीन चढ़े निगरानी के हत्थे

लाइव सिटीज टीम : सूबे में निगरानी विभाग हर हाल में घूसखोरों को सलाखों के पीछे भेजना चाहती है. घूसखोर सरकारी कर्मचारियों पर नकेल कसने के लिए निगरानी विभाग पूरी तरह सतर्क दिख रही है.

मंगलवार को एक के बाद एक 3 घूसखोर निगरानी के हत्थे चढ़े. पहला मामला बक्सर से जुड़ा है. बक्सर के धनसोई गांव के रहने वाले ठेकेदार मयंक कुमार ने निगरानी से यह शिकायत की थी कि एमभी बुक करने के लिए मुंगेर के जमालपुर में पदास्थापित कनीय अभियंता पंकज कुमार 20 हजार की रिश्वत की डिमांड कर रहा है. शिकायत मिलने के बाद निगरानी ने अपना जाल बिछाया. जांच टीम बनाई गई और डीएसपी गोपास सिंह के नेतृत्व में आरोपी इंजीनियर पंकज कुमार को रंगे हाथों धर दबोचने की रणनीति तैयार कर ली गई. निगरानी की टीम ने जमालपुर रेल आरक्षी केन्द्र परिसर में आरोपी के मकान में छापेमारी करते हुये 20 हजार रूपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया.

वहीं निगरानी की टीम को दूसरी कामयाबी पूर्वी चंपारण के कररिया डूमरा पंचायत में मिली. यहां राजस्व कर्मचारी हरि किशोर प्रसाद और ब्रोकर कपिलदेव बैठा को निगरनी ने धर दबोचा. इन दोनों पर रसीद काटने की एवज में 15 हजार नजराना मांगने की शिकायत मिली थी. दरअसल कड़रिया कौउरा गांव निवासी ब्रह्मानंद प्रसाद ने निगरानी मुख्यालय में शिकायत की थी कि इनसे रसीद काटने के एवज में 15 हजार घूस मांगा जा रहा है. इसके बाद डीएसपी विमलेन्दू कुमार वर्मा की नेतृत्व वाली टीम ने छापेमारी कर राजस्व कर्मचारी हरि किशोर प्रसाद को 10 हजार तो ब्रोकर कपिलदेव बैठा को 5 हजार रुपये के साथ रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया. जानकारी के मुताबिक इस साल निगरानी ने मिली शिकायतों पर कार्रवाई करते हुए अब तक 38 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है.

यह भी पढ़ें- हरियाणा से बिहार भेजते थे शराब, तस्करों के सरगना को मनु महाराज ने किया गिरफ्तार