इफको ने बिस्कोमान को दिया 2 करोड़ का अनुदान

पटना : बिहार की शीर्ष सहकारी संस्था बिस्कोमान वर्षो से राज्य के किसानों के लिए उत्कृष्ट कार्य करती रही है. किसानों के लिए नीम यूरिया उपलब्ध करने वाली इस संस्था को इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट करने के लिए सहकारिता जगत की सर्वश्रेष्ठ उर्वरक निर्माता कंपनी इफको द्वारा दो करोड़ रुपये अनुदान के रूप में प्रदान किया गया है. 

इस अवसर पर इफको के राज्य विपणन प्रबंधक डॉ अजय सिंह, डॉ वायपी सिंह  इफको के बरीय पदाधिकारी के साथ- साथ बिस्कोमान के प्रबंध निदेशक, उपाध्यक्ष गोपाल गिरी, स्टेट कोआपरेटिव बैंक के अध्यक्ष रमेश चंद्र चौबे के अतिरिक्त बिस्कोमान के निदेशक राम कलेवर सिंह,रघुवंश नारायण सिंह, महेश राय, राम विशुन सिंह के अतिरिक्त तकरीबन एक दर्जन सहकारी नेता इस मौके के गवाह बने रहे.

विदित हो कि आज बिस्कोमान पूरे बिहार में अभूतपूर्व क्रांति लाते हुए अपने125 बिक्री केंद्रों से 301 रुपया प्रति बोरी के दर से नीम कोटेड यूरिया की बिक्री करता है. जिसके कारण गत वर्ष भी राज्य के किसानों को यूरिया की किल्लत का सामना नही करना पड़ा.

बिस्कोमान के अध्यक्ष डॉ सुनील का स्पष्ट दावा है कि बिस्कोमान के उर्वरक व्यवसाय में आ जाने के कारण इस राज्य के गरीब किसानों का तकरीबन 200 करोड़ रुपये का बचत करा दिया गया जो उन्हें बिचौलियों एवम मुनाफाखोरों को कालाबाजारी के माध्यम से अधिक कीमत पर उर्वरक की खरीद कर भुगतना पड़ता था.

बिस्कोमान के अध्यक्ष डॉ सुनील सिंह द्वारा बताया गया कि इफको के पूर्ण सहयोग से pre positioning के रूप में पूरे राज्य में संस्था अपने बिभिन्न गोदामों में तकरीबन 88000 मैट्रिक टन उर्वरक स्टॉक कर चुका है।अतः इस राज्य के किसानों को अब किसी भी परिस्थिति में  कालाबाज़ारी के माध्यम से उर्वरक  खरीदने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी.

आने वाले समय मे भारत सरकार के निर्धारित किये गए मापदंडों में मात्र अब बिस्कोमान ही खरा उतर सकता है. बिस्कोमान के पास आज आधारभूत संरचना के साथ साथ पूर्ण योग्य कार्मिक मौजूद हैं.

उपस्थित सभी सहकारी नेताओं द्वारा इफको के प्रबंध निदेशक डॉ उदय शंकर अवस्थी जी के प्रति आभार प्रकट करते हुऐ बताया गया कि उनके असीम कृपा से ही बिस्कोमान इस मुकाम पर पहुँचा है जिसके कारण राज्य के  किसानों की इतनी बड़ी सेवा की जा रही है.

यह भी पढ़ें-  केंद्र किसानों को दे रहा लाभ, राज्य सरकार भी करें उनकी चिंता : सुशील मोदी