राजबल्लभ को जेल में ‘भोज’ कराने वाले जेलर को जबरिया रिटायर कराया गया

rajballabh
राज्बल्लभ यादव की जमानत याचिका पहले सुप्रीम कोर्ट से भी खारिज हो चुकी है. (फाइल फोटो)

पटना/नालंदा : नाबालिग से रेप के आरोप में जेल में बंद राजद के पूर्व विधायक राजबल्लभ यादव की जेल में खातिरदारी करने के आरोप में फंसे जेल अधीक्षक मोतीलाल को जबरिया सेवानिवृत करा दिया गया है. मोतीलाल को सेवानिवृत करने से संबंधित अधिसूचना गृह विभाग ने आज सोमवार को जारी कर दी है. मोतीलाल को इन्हीं आरोपों में 26 मार्च, 2016 को जेल आईजी आनंद किशोर ने निलंबित कर दिया था.

गृह विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार मोती लाल, बिहार कारा सेवा, तत्कालीन अधीक्षक, मंडल कारा, बिहारशरीफ सम्प्रति निलंबित के विरूद्ध प्रावधान के विपरीत कारा के अन्दर बाहरी कारीगर को बुलाकर विशेष प्रकार के पकवान बनवाने, काफी बड़ी मात्रा में सामग्रियों का बिना गेट पंजी में प्रविष्टि के जेल में प्रवेश कराने, जेल की महत्वपूर्ण पंजियों का संधारण नियमानुसार नहीं करने, प्रावधान के विपरीत संसीमित बंदी राजबल्लभ यादव (विधायक) को देय सुविधाओं के विपरीत अतिरिक्त सुविधाएँ मुहैया कराने के आरोपों में उनके विरूद्ध विभागीय कार्यवाही का आदेश दिया गया था. जिसके आलोक में आज यह फैसला लिया गया है.

गौरतलब है कि नाबालिग छात्रा रेपकांड में नवादा के राजद विधायक राजवल्लभ यादव पिछले फरवरी 2016 से बिहारशरीफ जेल में बंद हैं. इस मामले की स्पीडी ट्रायल के तहत पॉक्सो न्यायालय में सुनवाई की जा रही है. इस मामले में अभियोजन एवं आरोपितों की ओर से गवाही की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. फिलहाल मामले में आरोपित विधायक की ओर से बहस की जा रही है.

मोतीलाल पर जिस कथित ‘भोज’ के आरोप में कार्रवाई की गई है, वह घटना बीते साल 23 मार्च की है. नालंदा जेल के भीतर कैदियों के लिए विशेष भोज के आयोजन को लेकर एक अखबार में छपी खबर पर जेल आईजी ने नालंदा के जिलाधिकारी को इस मामले की जांच का निर्देश दिया था. उनके साथ ही इस मामले में कर्तव्यहीनता बरतने के आरोप में सहायक अधीक्षक रामानंद पंडित सहित कक्षपाल रमेश कुमार एवं रामलखन यादव को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया था और दोनों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई संचालित किए जाने का निर्देश दिया गया था.

देखें गृह विभाग की अधिसूचना –