केदारनाथ में फंस गईं थीं राजीव प्रताप रूडी की मां, ITBP ने बचाया

लाइव सिटीज डेस्क : केन्द्रीय कौशल विकास मंत्री और बिहार की सारण लोकसभा सीट से सांसद राजीव प्रताप रूडी की माता केदारनाथ दर्शन करने के लिए गईं थीं. इसी दौरान वहां पर वह प्राकृतिक आपदा में फंस गईं. जैसे ही उनके वहां पर फंसे होने की सूचना केन्द्रीय मंत्री को मिली, वह परेशान हो उठे. बताया गया कि उन्होंने केदारनाथ में सबसे निकट मौजूद आईटीबीपी कैंप में संपर्क किया. बाद में आईटीबीपी के जवानों ने कठिन परिश्रम के बाद उन्हें और अन्य यात्रियों को रेस्क्यू कर लिया है.


बता दें कि इस समय केदारनाथ और चार धाम की यात्रा के लिए भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं. यह तादाद बाकी सालों की संख्या में कहीं अधिक है. इसी यात्रा के लिए केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी की माता प्रभा सिंह भी गई हुईं हैं. यात्रा के दौरान लैंड स्लाइड होने पर उनकी गाड़ी और अन्य हजारों यात्री मार्ग में ही फंस गए थे. किसी तरह से उन्होंने इस पूरे वाकये की सूचना अपने बेटे केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी तक पहुंचा दी. रूडी माता की हालत जानकर काफी चिंतित हो उठे. इस दौरान उन्होंने करीबी आईटीबीपी कैंप से संपर्क किया. बताया गया कि आईटीबीपी ने उन्हें निश्चिंत रहने के लिए कहा.

आईटीबीपी ने इसके बाद रेस्क्यू ​आॅपरेशन चलाकर लैंडस्लाइड को हटाया. फंसे हुए तमाम यात्रियों को बचाकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है. बताते चलें कि कि इस बार उच्च हिमालयी क्षेत्र में 10,000 फुट से ज्यादा की ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के पहले ही दिन 32,700 श्रद्धालुओं ने भगवान विष्णु के दर्शन किए थे. जो पिछले साल पहले दिन दर्ज की गई 15000-16000 की तीर्थयात्रियों की संख्या से दोगुनी से भी अधिक है.

चमोली के जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन ने बताया, कपाट खुलने के पहले दिन देश-विदेश से आये करीब 32700 श्रद्धालुओं ने भगवान केदारनाथ के दर्शन किये और यह आंकड़ा पिछले साल के मुकाबले दोगुने से भी ज्यादा है.

इस बार बद्रीनाथ के कपाट खुलने के बाद भगवान विष्णु के सबसे पहले दर्शन करने वालों श्रद्धालुओं में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी भी शामिल थे.