दानापुर के नए DRM का फोकस है ट्रेनों की सही टाइमिंग और सिक्योरिटी पर

drm-danapur
बीच में DRM

पटना : दानापुर रेल डिवीजन के नए डीआरएम रंजन प्रकाश ठाकुर ने अपनी प्राथमिकताएं तय कर दी हैं. तय की गई प्राथमिकताओं के आधार पर ही वो अपने काम को सहजता के साथ आगे बढ़ाएंगे. ट्रेनों को टाइम पर चलाने के साथ ही पैसेंजर्स की सिक्योरिटी पर भी उनका फोकस होगा.

बुधवार को डीआरएम ने स्पष्ट किया कि संरक्षा, सुरक्षा, समय पर ट्रेनों का परिचान और बेहतर सफाई व्यवस्था. ये चार प्वाइंट उनकी प्राथमिकताओं में शामिल है. टिकटों की कालाबाजारी को रोकने के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य करने पर वो जोर देंगे.

दरअसल, दानापुर के नए डीआरएम पटना के ही रहने वाले हैं. इनका जन्म पटना में ही हुआ. शुरूआती पढ़ाई भी पटना से की. साल 1996 में रंजन प्रकाश ठाकुर दिल्ली रेल डिवीजन में थे. दिल्ली से बिहार के लिए छठ पूजा स्पेशल ट्रेन चलाने की शुरूआत इनके ही डायरेक्शन में की गई थी. रेलवे के अलावे इन्होंने सूचना प्रसारण मंत्रालय में भी ये अपना योगदान दे चुके हैं. डीडी बिहार, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश को इन्होंने ही लांच कराया था.

बंद करवाया पावर कार का जनरेटर

रंजन प्रकाश ठाकुर को दानापुर रेल डिवीजन का डीआरएम बने हुए अभी चार दिन हुआ है. पटना जंक्शन सहित डिवीजन के कई इंपॉरटेंट रेलवे स्टेशन का इंस्पेक्शन कर चुके हैं. अधिकारी व स्टाफ से मिलकर जरूरी जानकारियां और उन्हें होने वाली परेशानियों से वो वाकिफ हो रहे हैं.

शुरूआती दौर में ही इन्होंने एक बड़ी कार्रवाई कर दी है. राजेन्द्र नगर टर्मिनल से चलने वाली राजधानी एक्सप्रेस के पावर कार का जनरेटर बंद करा दिया है. इससे रेलवे को 7 करोड़ की बचत होगी. आगे चलकर इस तरह की कार्रवाई संपूर्ण क्रांति और दूसरे ट्रेनों के पावर कार पर भी होगी.