जदयू ने कहा : जिन्‍हें शराब पीनी है, वे बिहार से बाहर चले जाएं

पटना : रोहतास में जहरीली शराब से हुई पांच लोगों की मौत के बीच जदयू ने बिहार में शराबबंदी पर फिर से बड़ा बयान दिया है. जदयू के मुख्‍य प्रवक्‍ता और विधान पार्षद संजय सिंह ने कहा है कि जब तक बिहार में नीतीश कुमार की सरकार है, शराब पीने की इजाजत नहीं मिल सकती है. जिन्‍हें पीनी है, उन्‍हें बिहार से बाहर जाना होगा. शराबबंदी से बिहार की जनता खुश है.

संजय सिंह ने तेजस्वी यादव को टारगेट करते हुए कहा है कि नीतीश कुमार ने शराबबंदी करके उन घरों को रौशनी दी है, जो शराब के कारण बुझने के कगार पर थी. तेजस्वी यादव को शराबबंदी की अहमियत को समझने के लिए गांवों और कस्बों की यात्रा करनी चाहिए. वहां जाकर लोगो से पूछें कि शराबबंदी से क्या फायदा हुआ है तो लोग बताएंगे इसके लाभ को. तेजस्वी यादव एसी कमरे में बैठकर सिर्फ बयान देते हैं, उनको कभी जमीन पर भी देखना चाहिए कि नीतीश कुमार ने बिहार को क्या नायाब तोहफा दिया है.

जदयू प्रवक्‍ता का दावा है कि डेढ़ साल में बिहार में शराबबंदी का जो माहौल बना है वो पूरे देश में फैल गया है. नीतीश कुमार की मुहिम से अब दूसरे राज्य भी प्रभावित हो रहे हैं और अपने राज्य में भी इसे लागू करने की मांग कर हैं. बिहार ने डेढ़ साल में शराबबंदी के क्षेत्र में जो कीर्तिमान स्थापित किया है उसकी धूम दुनिया भर में हो रही है. पीएम नरेंद्र मोदी ने इसकी भूरि-भूरि प्रशंसा की है.

संजय सिंह का दावा है कि डेढ़ साल में शराबबंदी के बाद से बिहार में अलग-अलग वस्तुओं की मांग बढ़ी है. आंकड़ों के मुताबिक बीते वित्त वर्ष में दूध-दही की मांग में 18 फीसदी का इजाफा हुआ है. शहद की मांग चार गुना बढ़ी है, जबकि रसगुल्ले की बिक्री 50 फीसदी चढ़ी है. उपभोक्ता उत्पादों (एफएमसीजी) की मांग 25 फीसदी बढ़ी, जबकि टीवी, फ्रीज और वॉशिंग मशीन की बिक्री में 31 प्रतिशत का इजाफा दर्ज किया गया है.

रेडीमेड कपड़ों की बिक्री भी बीते साल 50 फीसदी बढ़ी, जबकि गहनों की बिक्री 11 फीसदी बढ़ी है. इसके अलावा, दोपहिया वाहनों की बिक्री 23 फीसदी बढ़ी है. दूसरी ओर, बीते साल की तुलना में अपराध 27 फीसदी कम हुआ है. कत्ल के मामलों में 22 फीसदी की कमी आई है, जबकि इस दौरान 23 फीसदी कम डकैतियां हुई हैं.

इसके अलावा दंगों के मामले में 33 फीसदी की गिरावट हुई है. बीते साल शराबबंदी की वजह से सड़क दुर्घटनाओं में 17-20 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई है. ये सबकुछ शराबबंदी की वजह से हुआ है और लोग काफी खुश हैं.