हाईकोर्ट : शहाबुद्दीन पर सुनवाई से इंकार, लड्डन मियां की जमानत याचिका खारिज

पटना (एहतेशाम अहमद) : सीवान के बहुचर्चित छोटेलाल अपहरण कांड में निचली अदालत द्वारा दी गयी सजा को चुनौती देने वाली याचिका पर  पटना हाईकोर्ट ने सुनवाई से इंकार कर मामले को दूसरी अदालत में स्थानांतरित कर दिया है. जस्टिस राकेश कुमार की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष मो. शहाबुद्दीन की याचिका पर गुरूवार को सुनवाई होनी थी, लेकिन अदालत ने इस मामले को अन्यत्र खंडपीठ में स्थानांतरित करने का निर्देश दिया.

गौरतलब है कि 16 फरवरी 1999 को घटित उक्त घटना में छोटेलाल गुप्ता का अपहरण हो गया था. जिसके बाद से उसका कोई अता-पता नहीं चला. इस मामले में राजद के पूर्व बाहुबली सांसद मो. शहाबुद्दीन को मुख्य अभियुक्त बनाया गया था. मामले के सूचक ने पुलिस के समक्ष दिये बयान में कहा था कि पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन ने छोटेलाल गुप्ता का अपहरण कर लिया. जिसके बाद से उसका कोई पता नहीं चल पाया.

लड्डन मियां की जमानत याचिका खारिज

सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में अभियुक्त बनाये गये अजहरूद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां को पटना हाईकोर्ट ने किसी भी प्रकार की राहत देने से साफ तौर पर इंकार करते हुए नियमित जमानत याचिका खारिज कर दिया. गत 9 अक्टूबर को इस मामले की सुनवाई पूरी कर रखे गये सुरक्षित आदेश में अदालत ने गुरूवार को अपना फैसला सुनाया. जस्टिस नीलू अग्रवाल की एकलपीठ ने अजहरूद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां की ओर से दायर नियमित जमानत याचिका पर गुरूवार को फैसला सुनाया.

गौरतलब है कि सीवान के इस चर्चित हत्याकांड में सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या अपराधकर्मियों ने 13 मई 2016  की शाम 7.30 बजे टाउन थाना क्षेत्रान्तर्गत ओवरब्रिज के पास गोली मारकर कर दी थी. इस हत्याकांड में मुख्य अभियुक्त लड्डन मियां को बनाया गया था, वहीं राजद के पूर्व बाहुबली सांसद मो. शहाबुद्दीन का भी नाम आया था. राज्य सरकार ने घटना की गंभीरता को देखते हुए मामले की जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंप दिया था.