यंग प्रोफेशनल महिलाओं का आयोजन ‘पोएट्री स्लेम’, 10 जून को पटना में हैं तो जरुर आयें

POET1

लाइन सिटीज डेस्क/पटना : आगामी 10 June को तीन यंग प्रोफेशनल महिलाएं पटना में पोएट्री स्लेम का आयोजन करने जा रही हैं. तीन यंग महिला आयोजकों में दो अधिवक्ता हैं तो एक इंजीनियर. EEIH (ईह) पेशे से परे जुनून को बढ़ावा देने के लिए समर्पित एक सामाजिक मंच है जिसके बैनर तले यह आयोजन किया जा रहा है.

इसमें कुछ ऐसी गुमनाम प्रतिभाएं नमूदार होने जा रही हैं जिनके बारे हम कह सकते हैं कि ‘बातें जो अनकही रह गईं, भीड़ में जो अनसुनी रह गईं, आओ ऐसे कुछ अफ़साने देखें, सुने ग़ौर से, ख़ामोश चीखें.’ अपनी तरह की इस एक अलग पोएट्री स्लैम का आयोजन आगामी 10 जून दिन शनिवार को पटना के मारवाड़ी आवास गृह में होने जा रहा है. पोएट्री स्लेम एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां पोएट अपनी कला या अपनी कृति या अपनी किसी भी तरह की क्रिएटिविटी की प्रस्तुति करते हैं. उसे अभिनय के द्वारा प्रस्तुत करते हैं या उसका वाचन या पाठ करते हैं या कोई अन्य तरीका जिससे वह पेश करना चाहें.

पूरे भारत के महानगरीय जीवन में तो ऐसो आयोजन पहले से खासा लोकप्रिय हैं और अब इसे बिहार की राजधानी पटना में इम्प्लीमेंट करने की कोशिश में है ‘ईह’. इस इवेंट में देश के अलग—अलग हिस्सों में स्टडी कर रहे यूथ की भागीदारी रहेगी. ईह (EEIH) मूलत: संस्कृत शब्द से उद्धृत  है जिसका अर्थ होता है ‘चाहत’ या ‘कामना’ और इसमें आपके आपके प्रोफेशन से अलहदा आपके पैशन को प्रमोट करने के बारे में ज्यादा यकीन किया जाता है.

POET2

अक्तूबर 2016 में इसे दो महिला अधिवक्ताओं शताक्षी आनंद एवं श्रेसी सिन्हा ने आरंभ किया था. तब से अब तक इसके आॅफिशियल पेज पर 100 से ज्यादा ऐसे लोगों की स्टोरी प्रकाशित की जा चुकी है जिन्होंने अपनी प्रोफेशनल जिंदगी के साथ—साथ क्रिएटिविटी की दुनिया का संतुलन साधने का काम किया है. हाल ही में इसकी सुगुबुगाहट शुरू हुई है.

इसका मकसद ऐसी आवाज को पहचान देना है जिसमें स्टोरी में एक दृष्टि तो है लेकिन जिसकी अनदेखी होती रही है. यह ब्लॉग या फेसबुक पेज के रूप में कार्य करता है जिसे एक इंजीनियरिंग ग्रेजुएट श्रेया श्रावणी ने आरंभ किया है.

स्टोरी की प्रस्तुति रॉ फॉर्म —अपरिष्कृत रूवरूप— में ही होती है और स्वयं उनकी ही आवाज में प्रस्तुत की जाती है जिन पर यह केंद्रित होता है.