मोदी जी ! तहरा पर भरोसा करब जरूर, छठ में ट्रेनमा टाइम पर चलवा दीं हुजूर

pm-modi

पटना : सोशल मीडिया की दुनिया की सैर करें. बिहार सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पुकारता दिख रहा है. मौका महापर्व छठ का है. ऐसे में, कोई भी बिहारी गांव आकर छठ को छोड़ना नहीं चाहता. गांव जाने की प्लानिंग महीनों पहले हो जाती है. टिकट की बुकिंग भी. पर, एन मौके पर जब ट्रेन रुलाये, तो गुस्सा आता है.

देश के रेल मंत्री पीयूष गोयल हैं. किंतु, दिवाली के मौके पर उनकी रेल ने बिहारवासियों को खूब झुलाया है. अब सभी राजधानी एक्सप्रेस से तो चल नहीं सकते. दूसरी सभी ट्रेनों का बुरा हाल है. कई-कई घंटे देरी से चल रही हैं. स्पेशल ट्रेनों की टाइमिंग तो और भी गंदी है. ऐसे में, छठ के लिए बिहारवासियों की उम्मीद की किरण भी सिर्फ नरेंद्र मोदी ही रह गए हैं. सोशल मीडिया का ट्रेंड कहता है कि मोदी को छोड़कर और दूसरा कोई कुछ भी नहीं कर सकता.

piyush-goyal
रेल मंत्री पीयूष गोयल (फाइल फोटो)

स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी तो शुक्रवार को केदारनाथ में कहा था, महादेव को उद्धार के लिए अपने बेटे का इंतजार था. अब सोशल मीडिया पर बिहार के लोग कह रहे हैं कि जब केदारनाथ में विराजने वाले महादेव का उद्धार नरेंद्र मोदी के हाथों होना था, तो बगैर मोदी कृपा के छठ के मौके पर बिहार की ट्रेनें भी समय से नहीं पहुंचेगी. कोई भी ऐसी सूरत नहीं चाहता है कि चार दिनों के छठ के महापर्व में एक दिन भी ट्रेन की लेटलतीफी में बर्बाद हो जाए.

देश के सभी बड़े स्टेशनों पर अभी बिहार आने वाली ट्रेनों में भारी भीड़ है. दिवाली का अनुभव बिहार के रेल यात्रियों के लिए बहुत ही बुरा रहा है. अब देखिये न कि कोटा में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे आशियाना नगर के पुष्कर ने पटना आने के लिए कोटा-पटना एक्सप्रेस में 4 महीने पहले ही टिकट की बुकिंग कर ली थी. ट्रेन समय से चल रही होती तो पुष्कर दिवाली की शाम पटना में अपने घर लक्ष्मी पूजन में शामिल हो रहा होता. पर, ट्रेन ने दिवाली ट्रेन में ही मनवा दी. ट्रेन 23 फ=घंटे 20 मिनट की देरी से अगले दिन पहुंची. परेशान अकेले पुष्कर नहीं, सभी मुसाफिर हुए.

patna-junction-train
प्रतीकात्मक फोटो

बुरा हाल सिर्फ कोटा-पटना ट्रेन का नहीं हुआ. पंजाब मेल रात को 9 बजकर 45 मिनट पर पटना पहुंचती है, लेकिन दिवाली की रात पहुंची ही नहीं. यह ट्रेन अगले दिन 16 घंटे 33 मिनट की देरी से आई. मतलब सबों की दिवाली ट्रेन में ही गुल हो गई. गरीब रथ भी कहां पीछे थी. वह 25 घंटे 14 मिनट की देरी से चली. डिब्रूगढ़-दिल्ली एक्सप्रेस 20 घंटे 11 मिनट की लेटलतीफी से पटना आई. जयनगर-आनंद विहार स्पेशल 22 घंटे देरी से चलती रही. सो, यह हाल सुना कर पब्लिक सोशल मीडिया पर नरेंद्र मोदी से विनती कर रही है कि ‘तहरा पर भरोसा करब जरूर, छठ में ट्रेनमा टाइम पर चलवा दीं हुजूर’