ट्रेन चल पड़ी IAS परीक्षा की, जानें किस स्टेशन के पैसेंजर अधिक थे

ias

पटना : सिविल सर्विसेज के लिए UPSC की PT परीक्षा आज संडे 18 जून को सम्पन्न हो गई . यह परीक्षा IAS बनने के जंक्शन तक पहुंचाने वाली पहली पैसेंजर ट्रेन मानी जाती है . आगे की एक्सप्रेस ट्रेन PT में सफल होने वाले पार्टिसिपेंट्स के लिए MAINS की परीक्षा के दिन इंटरव्यू जंक्शन के लिए खुलेगी . देश की सबसे बड़ी और सबसे कड़ी इस परीक्षा को ‘इम्तिहान-ए-हिंद’ भी कहा जाता है .

बिहार के लिए इस परीक्षा के विशेष मायने हैं . ठेठ में लोग कहेंगे कि यह खानदान को तार देता है . हर माँ-बाप चाहता है कि बेटा-बेटी IAS-IPS वाला बाबू बन जाए . दूसरी बात यह कि इसके नतीजे बिहार की प्रतिभा पर सवाल खड़े करने वालों को धोबिया पाठ देकर सीधे हरा देता है . रिजल्ट में बिहार की सफलता हर कोने में दिखती है . परिणाम पूरे देश में बिहार वाले IAS-IPS बाबू आसानी से मिलते हैं . दिल्ली में तो कहा जाता है कि हर इतने पर एक बिहारी ऑफिसर है .

ias

आज संडे को जब PT परीक्षा देकर पार्टिसिपेंट्स बाहर आये,तो रिएक्शन्स मिक्स्ड था . तैयार को सहज लगा,कम तैयार को थोड़ा असहज . अब एग्जामिनेशन हॉल के भीतर दिए गए सवालों के जवाब से अपने संभावित नम्बर मिलाने का वक़्त है . बाजीराम एंड रवि जैसे संस्थानों ने क्वेश्चन-आंसर के शीट जारी कर दिए हैं . गांवों से माँ-पिता भी बच्चों से परीक्षा कैसी गई, जानकारी प्राप्त कर रहे हैं .

लाइव सिटीज की टीम आज एग्जामिनेशन सेंटरों का दौरा कर यह पता कर रही थी कि किस जिले के अधिक परीक्षार्थी शामिल हुए . यह बिहार के सामाजिक-शैक्षणिक जागरण को पढ़ने का एक तरीका भी होता है . आज सबसे अधिक परीक्षार्थी नालंदा,बेगूसराय,मधुबनी, जहानाबाद,सहरसा,गया,दरभंगा और समस्तीपुर के मिले . आगे बेतिया,भागलपुर,भोजपुर जैसे जिलों का नंबर था .

CBSE के हजार स्‍कूल लेते हैं सिर्फ ठेका, 500 करोड़ का धंधा, CBI जांच के लिए पप्‍पू ने पत्र लिखा

बहुत पटना में रहने वाले दिखे,लेकिन जिला उन्होंने दूसरा बताया . कहा कि स्थायी पता तो दूसरे जिले का है . इसे मेंशन करने का बड़ा फायदा होता है . यदि आप IAS – IPS बन गए और बिहार कैडर मिल भी गया,फिर स्थायी पता यदि पटना दर्ज है,तो आप कभी भी पटना के DM-SP तो नहीं ही बन सकते हैं . जिले की बागडोर तो दूसरे जिलों में ही संभालनी होगी .

यह भी पढ़ें –
UPSC : प्रथम पाली की परीक्षा ओवर, कैंडिडेट्स का ऐसा रहा अनुभव
अगले साल से बिहार में NEET का परीक्षा केंद्र नहीं!
संडे को है ‘इम्तिहान-ए-हिंद’ यानि UPSC की PT परीक्षा, सक्‍सेस मतलब वैतरणी पार