व्रती महिलाएं आज अस्ताचलगामी और कल उदीयमान भगवान भास्कर को अर्घ्य देकर चार दिवसीय अनुष्ठान करेंगी पूरा

कैमुर/भभुआ(ब्रजेश दुबे): 4 दिनों तक चलने वाला चार दिवसीय छठ पूजा को व्रती महिलाएं एवं पुरुष शुक्रवार को यानी आज कुछ ही घंटों में सूर्यास्त के समय भगवान भास्कर को गंगाजल से पश्चिमाभिमुख होकर अर्घ्य देंगी. इसके बाद पूरे रात दीपक जलाकर छठ मैया का गीत गाते हुए जागरण करेंगी. सुबह शनिवार को सूर्योदय के समय व्रती महिलाएं एवं पुरुष भगवान भास्कर को अर्घ्य देकर अपने चार दिवसीय अनुष्ठान का समापन करेंगी.

इस संबंध में ज्योतिषाचार्य राकेश कुमार द्विवेदी बताते हैं कि अर्घ्य देने के बाद व्रती महिलाएं छठ मैया के घाट पर ही हवन पूजन भी करेंगी. जिसके बाद अपने अपने घरों को जायेंगी.



बताते चलें कि चार दिवसीय चलने वाला यह महापर्व कितना भी कठिन होने के बाद महिलाएं इस पर्व को बड़े ही आस्था एवं उल्लास के साथ करती हैं. इस पर्व को लेकर गांव से शहर तक छठ मैया के धुनों की गीत चारों तरफ सुनने को मिलती है. छठ मैया के धुन से सारा वायुमंडल गुंजायमान होने लगता है.

करोना की गाइडलाइन को देखते हुए प्रशासन के द्वारा भी सभी जगह सुरक्षा की व्यवस्था की गई है. वही समाजसेवियों के द्वारा छठ घाटों पर साफ-सफाई से लेकर लाइट बत्ती एवं टेंट की व्यवस्था की जा रही है. यह पर्व छठ पूजा महापर्व के नाम से बिहार सहित पूरे भारत में विख्यात है.