छठ व्रतियों ने दिया अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को पहला अर्घ्य, अब कल की तैयारी में जुटे

लाइव सिटीज डेस्कः आस्था के महापर्व छठ के तीसरे दिन आज गुरुवार को प्रदेश के विभिन्न नदी, तालाबों, नहरों पर बने घाटों पर जाकर छठ व्रतियों ने डूबते भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया. वहीं जो नदी, तालाबों तक नहीं पहुंच सके वो घर की छतों और आवासीय प्रांगण में बनाए गए कुंड में लाखों की संख्या में व्रत करने वालों तथा श्रद्धालुओं ने अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्‍य दिया.

पटना में गंगा नदी पर बने विभिन्न घाटों पर घुटने तक पानी में खड़े होकर छठ व्रत करने वालों और श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना की और डूबते सूर्य को अर्घ्‍य दिया.

 

इधर पटना के एक अणे मार्ग पर सीएम नीतीश कुमार के आवास पर भी उनकी भाभी ने अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया. इसके साथ ही दस सर्कुलर रोड स्थित राबड़ी आवास पर भी पूरा लालू परिवार छठ में सराबोर दिखा.

लालू प्रसाद की पत्नी और बिहार कि एक्स सीएम राबड़ी देवी ने भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया. इस दौरान लालू प्रसाद के परिवार के तमाम लोग मौजूद रहे.

पुलिस के जवान लोगों की निगरानी में लगे रहे ताकि भीड़ की आड़ को लेकर किसी तरह की दुर्घटना को अंजाम ना दिया जा सके. एनडीआरएफ के जवानों की टीमें भी लगातार गंगा घाटों की मॉनिटरिंग करते दिखी. कोई अनहोनी घटना न घटे इसके लिए प्रशासन की ओर से पूरी तैयारी की गई है. वाटर एंबुलेंस का भी इंतजाम किया गया है गंगा नदी में. इसके साथ ही 600 एनडीआरएफ के जवान गंगा नदी में छठ व्रतियों की सुरक्षा में डटे हुए हैं.

प्रकृति पूजन के पर्व छठ को लेकर पूरे प्रदेश में श्रद्धालुओं के बीच धार्मिक श्रद्धा और उत्साह का माहौल है. छठ के मधुर गीतों के बीच पूरे प्रदेश में माहौल भक्तिमय हो गया है. हर तरफ हर्ष और उल्लास का वातावरण देखा जा रहा है. व्रत धारियों और श्रद्धालुओं के साथ विभिन्न घाटों पर पहुंचे बच्चे पटाखे फोड़ते देखे गए.

उधर बिहार के औरंगाबाद में स्थित सूर्य मंदिर, नालंदा के बड़गांव और पटना जिले के पंडारक मंदिर में भी लाखों श्रद्धालुओं ने छठ पर्व पर पूजा अर्चना की. दुल्हन की तरह सजे घाटों पर व्रतियों ने सूर्य उपासना के साथ मनोकामनाएं मांगी. इस अवसर पर कई जगह रात भर भंडारे का इंतजाम किया गया तो कई जगह भोजपुरी गायकों ने छठ के धार्मिक गीत गाकर इस पर्व की शोभा और बढ़ा दी.

वहीं आज अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को अर्घ्य के साथ ही छठ व्रती कल शुक्रवार की सुबह के उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने की तैयारी में जुट गए हैं. शुक्रवार को उदीयमान भगवान भास्कर को अर्घ्य देने के साथ ही यह चार दिवसीय छठ महापर्व का समापन हो जाएगा.