टुन्ना पांडेय को पार्टी से निकालने पर कांग्रेस नेता का बयान, कहा, आवाज उठाने वालों को दबाने में जुटी सरकार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: भाजपा एमएलसी टुन्ना पांडेय के द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को परिस्थिति वश का मुख्यमंत्री करार दिए जाने और भाजपा के एमएलसी को निष्कासित किए जाने के फैसले को कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजीत शर्मा ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

कांग्रेस विधायक ने भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि ,ऐसा दोनों का चरित्र ही है, जब कोई नेता आवाज उठाता है तो उसे दबाने के लिए पार्टी से ही निकाल दिया जाता है. भागलपुर विधायक ने कहा कि यदि जनप्रतिनिधि कोरोना काल में आवाज नहीं उठाएगा तो लोगों का कैसे भला हो सकेगा. अजीत शर्मा ने कहा कि वह लगातार मजबूती के साथ सरकार की नाकामयाबियों को उजागर करने का प्रयास करते रहे हैं. उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर बिहार में एक-एक एकमो मशीन अस्पतालों में लगवाने की मांग की है.

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान जिस तरह लोगों का फेफड़ा प्रभावित हो रहा है, यह मशीन कृत्रिम रूप से फेफडे का कार्य करती है. यह कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए संजीवनी का काम करने वाला मशीन है. उन्होंने कहा कि यह मशीन पूरे बिहार के किसी भी अस्पताल या मेडिकल कॉलेज में उपलब्ध नहीं है.