बिहार विधान परिषद के पूर्व सभापति प्रो. अरुण कुमार का निधन, सीएम नीतीश ने जताया शोक

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार विधान परिषद के पूर्व सभापति प्रोफेसर अरुण कुमार का बुधवार देर रात निधन हो गया. वे लगभग 90 वर्ष के थे. पूर्व सभापति प्रो. अरुण कुमार पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे. उनका इलाज भी चल रहा था. बुधवार देर रात राजधानी पटना के पटेल नगर स्थित आवास पर उनका निधन हो गया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनके निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है. पूर्व सभापति का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ होगा.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक संदेश में कहा कि प्रो. कुमार एक कुशल राजनेता एवं प्रसिद्ध समाजसेवी थे. वह 05 जुलाई 1984 से 03 अक्टूबर 1986 तक बिहार विधान परिषद के सभापति रहे थे. इसके बाद वह 16 अप्रैल 2006 से 04 अगस्त 2009 तक विधान परिषद के कार्यकारी सभापति भी रहे. उनके निधन से राजनीतिक एवं सामाजिक क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुई है.प्रो अरुण कुमार के निधन की सूचना मिलने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तत्काल उनके बेटे से फोन पर बातचीत की है. अपनी संवेदना शोक संतप्त परिवार को दी है. सरकार ने फैसला किया है कि प्रो अरुण कुमार का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ होगा

प्रो अरुण कुमार का जन्म 2 जनवरी 1931 को रोहतास जिले के दुर्गावती स्थित मच्छनहट्टा में हुआ था. अध्यापन के कार्य से वह राजनीति में आए और 5 जुलाई 1984 से 3 अक्टूबर 1986 तक बिहार विधान परिषद के सभापति रहे. इसके बाद 16 अप्रैल 2006 से 4 अगस्त 2009 तक उन्होंने परिषद के कार्यकारी सभापति के तौर पर काम किया. उन्होंने अपने जीवन में कई पुस्तकें भी लिखीं। मानव भारती जैसी संस्था के वह महामंत्री भी रहे. प्रो अरुण कुमार अपने पीछे तीन संतान छोड़ गए हैं.