बेगूसराय सांसद भोला सिंह को अस्पताल से छुट्टी, अभी नहीं कर रहे मुलाकात

नई दिल्ली : बिहार के बेगूसराय के भाजपा सांसद डॉ. भोला सिंह को गंगा राम अस्पताल से छुट्टी मिल गई है. वे अपने बंगले पर लौट आये हैं. लेकिन डॉक्टरों ने अभी आराम करने और बहुतों से नहीं मिलने को कहा है. इलाज लंबा चलेगा.

डॉ. भोला सिंह कई दिनों तक नई दिल्ली के  गंगा राम अस्पताल में भर्ती रहे. उम्र 75 से अधिक हो गई है, ऐसे में उम्रजनित कई बीमारियों का असर भी शुरु हो गया है. अस्पताल में सांसद के दाखिले की जानकारी कम ही लोगों को दी गई थी. शायद परिजन नहीं चाहते होंगे कि बेगूसराय परेशान हो और शुभेच्छु बड़ी संख्या में दिल्ली पहुंचने लगे जाएं. बेगूसराय को खबर तो ऐसे लग गई कि गंगा राम अस्पताल में बेगूसराय के ही एक बड़े डॉक्टर साहब की बिटिया भी डॉक्टर है और वह देखने को पहुंच गई थी.

सांसद की तबियत में तेज उतार-चढ़ाव 2014 के लोक सभा चुनाव के पहले से ही चल रहा है, ऐसा करीबियों का कहना है. 2009 में वे नवादा से लोक सभा का चुनाव जीते थे. 1967 में पहली बार सीपीआई से बिहार विधान सभा का चुनाव जीतने वाले भोला सिंह तब सांसद बनने को पहली बार बेगूसराय से बाहर गए थे. सीपीआई के नेतृत्व से मतभेद होने के बाद वे 1977 में कांग्रेस के टिकट पर बेगूसराय विधान सभा का चुनाव लड़े. बड़ी बात यह कि कांग्रेस विरोध के महालहर में भी वे चुनाव जीत गए थे. बाद में, 2000 में बिहार विधान सभा के उपाध्यक्ष भी बने.

bhola1

2014 में भोला सिंह की इच्छा का भाजपा नेतृत्व ने सम्मान किया और बेगूसराय से लोकसभा का टिकट दे दिया. चुनाव प्रचार के वक़्त भी सेहत बहुत ठीक नहीं थी, पर वे चुनाव जीते. करीबी कहते हैं कि तब प्रोस्टेट की बीमारी थी. चुनाव बाद उन्होंने गुजरात के अहमदाबाद में सर्जरी भी कराई, लेकिन यह सर्जरी ठीक नहीं हुई थी. बाद में इसे दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल ने ठीक किया. पर अब तक और कई बीमारियों ने घेर लिया था.

आज शुकवार को लाइव सिटीज के रिपोर्टर को सांसद डॉ. भोला सिंह के दिल्ली आवास के आफिस ने बताया कि साहब दो दिनों पहले अस्पताल से आ गए हैं, लेकिन डॉक्टरों की परामर्श के मुताबिक अभी आराम करना है और बहुतों से नहीं मिलना है. हालांकि, साथ में यह भी बताया गया कि विशेष चिंता करने की अब कोई जरुरत नहीं रह गई है.

यह भी पढ़ें –
शत्रुघ्न को मिला भोला सिंह का साथ, पूछा – निकालने की बात करने वाले सुशील मोदी कौन?
लालू ने कहा- सिद्धांतों से समझौता नहीं, कोविंद पर नहीं देता विपक्ष का भी साथ
मैट्रिक के नतीजे पर भी उठने लगे सवाल, कई छात्रों को आये 100 में 100 अंक