पोलिटिकल कोहराम से दूर दिखने की कोशिश में लगे नीतीश, काम निपटा रहे हैं

पटना : जुलाई माह की शुरुआत बिहार में ऐसे हुई. तीन दिनों बाद ही मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार बीमार पड़ गये. फिर स्‍वास्‍थ्‍य लाभ को राजगीर प्रवास को चले गये. राजगीर में थे,तभी 7 जुलाई को सीबीआई ने लालू प्रसाद के ठिकानों पर रेड मार दी. 5 जुलाई को सीबीआई ने प्राथमिकी दर्ज कर ली थी,जिसमें लालू प्रसाद के अलावा राबड़ी देवी व तेजस्‍वी यादव को भी अभियुक्‍त बनाया गया था.

सीबीआई की रेड के साथ ही बिहार में पोलिटिकल कोहराम शुरु हो गया. कहा जाने लगा कि तेजस्‍वी यादव को इस्‍तीफा देना होगा. नीतीश कुमार को तेजस्‍वी अब डिप्‍टी चीफ मिनिस्‍टर के रुप में मंजूर नहीं हैं. स्‍वयं नीतीश कुमार ने कुछ भी नहीं कहा,लेकिन राजद-जदयू के प्रवक्‍ताओं-नेताओं ने बयान देने को तलवारें निकाल ली. लालू प्रसाद ने दो टूक तेजस्‍वी के इस्‍तीफे से मना कर दिया.

विवाद अब भी खत्‍म नहीं हुआ है. कह सकते हैं कि अर्द्ध विराम है. ऐसा नहीं है कि नीतीश कुमार कुछ भी नहीं करेंगे. भाजपा के साथ रिश्‍ते सुधरते दिख रहे हैं. अमित शाह ने भी नीतीश कुमार की खूब तारीफ की है. पर,नीतीश कुमार का गणित अभी ठीक से नहीं बैठा है. सोनिया गांधी भी कुमार से लगातार संपर्क में हैं. स्‍ट्रेटजिस्‍ट प्रशांत किशोर की अनुपस्थिति में कांग्रेस के अध्‍यक्ष व मंत्री अशोक चौधरी लालू प्रसाद और नीतीश कुमार के बीच संदेशवाहक बने हुए हैं.

पैदा कोहराम के बाद नीतीश कुमार व लालू प्रसाद के बीच बातचीत नहीं हुई है. बातचीत अधिक दिनों तक नहीं हुई,तो निर्णय हो जाएगा. बिहार यह भी जानने को बेताब है कि मंगलवार 18 जुलाई को राज्‍य काबीना की बैठक होती है,तो तेजस्‍वी यादव जाते हैं कि नहीं. फिर गये तो नीतीश कुमार का रिस्‍पांस कैसा रहता है. वैसे अर्द्ध विराम की स्थिति में जदयू के राष्‍ट्रीय प्रधान महासचिव के सी त्‍यागी ने बहस की धार को यह कह कर फ्यूज करने की कोशिश की है कि नीतीश कुमार ने तेजस्‍वी यादव से इस्‍तीफा कब मांगा था. पार्टी ने बस सीबीआई की प्राथमिकी में दर्ज आरोपों के बारे में बिहार की जनता को सच बताने को कहा था.

नगर विकास एवं आवास विभाग की समीक्षा बैठक करते CM नीतीश

पहले बीमारी और फिर पोलिटिकल कोहराम के बाद नीतीश कुमार इधर के दिनों में बहुत सारे काम नहीं निपटा रहे थे. पर,आज सोमवार से जब अर्द्ध-विराम की कुछ स्थिति बनी है,तो नीतीश कुमार ने सरकारी कामों को निपटाना शुरु कर दिया है. आज उन्‍होंने नगर विकास एवं आवास विभाग के कार्यों की समीक्षा मंत्री महेश्‍वर हजारी व अधिकारियों के साथ की. इस आशय की जानकारी उन्‍होंने स्‍वयं ट्वीट कर दी है.

आगे कुछ नहीं होगा,ऐसा मत मानिए. कोई न कोई निर्णय नीतीश कुमार जरुर लेंगे,क्‍योंकि कोहराम ने जितना असर दिखाया है,उसके संदर्भ में पब्लिक के बीच अपनी साख को नीतीश कुमार संतुलित करने की कोशिश जरुर करेंगे.

यह भी पढ़ें –
लालू-तेजस्‍वी बाद में : CBI पहले लपेटे में लेगा चाणक्‍या होटल के कोचर ब्रदर्स को
टशन ख़त्म हुआ क्या ! तेज प्रताप खाने बैठे हैं सत्तू-प्याज
राष्ट्रपति चुनाव में मनु महाराज का एक्शन, लापरवाह ASI व सिपाही सस्पेंड
राजबल्लभ को जेल में ‘भोज’ कराने वाले जेलर को जबरिया रिटायर कराया गया