देवी-देवताओं के शरण में पहुंच गए शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी

पटना : बिहार में बोर्ड के नतीजों के बाद मचे हो-हंगामा को बीच में छोड़ सूबे के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी देवी-देवताओं के शरण में पहुंच गए हैं. चौधरी धर्म में आस्था रखने वाले पुराने व्यक्ति हैं. जानकारों ने बताया कि वे अभी उत्तराखंड में बद्रीनाथ-केदारनाथ का दर्शन कर रहे हैं. दोनों तीर्थस्थानों का हिंदू धर्म में सर्वोच्च स्थान है. बताया जा रहा है कि वे रविवार को शाम तक पटना वापस आ सकते हैं.



अशोक चौधरी के बद्रीनाथ-केदारनाथ की यात्रा के बारे में यह खबर भी मिल रही है कि उनके जाने का कार्यक्रम बहुत पहले से तय था. जब वे पटना से पहले दिल्ली के लिए रवाना हुए, तब बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड ने कहा था कि इंटर आर्ट्स के टॉपर गणेश कुमार में कोई गड़बड़ी नहीं है. इस आधार पर मंत्री ने 1 जून को गणेश पर सवाल उठा रहे मीडिया को चुनौती भी दे दी थी.

पर चौधरी जैसे ही पटना से गए, दृश्य बदलने लगे. वे पटना में तो सबकुछ ठीक-ठाक हो गया मान कर चले थे, लेकिन शुक्रवार को कैबिनेट की बैठक में उनकी अनुपस्थिति ने पॉलिटिकल कॉरिडोर में फुसफुसाहट पैदा कर दी थी. मुख्यमंत्री परीक्षा के नतीजे से पहले से ही दुखी थे. उन्होंने इस सिलसिले में दो बार बुलाकर अशोक चौधरी से बात भी की थी. लेकिन, बहुत तेज डेवलपमेंट तो शुक्रवार की शाम को बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर की प्रेस वार्ता में हुआ.

प्रेस वार्ता के बारे में कहा जाता है कि इसकी खबर शिक्षा मंत्री को भी नहीं थी. इधर पटना में बोर्ड के चेयरमैन ने टॉपर गणेश कुमार को गलत ठहरा कर गिरफ्तार करा दिया. कहा जाता है कि बगैर सूचना इस घोषणा से चौधरी काफी खफा हैं. इसिलिए उन्होंने आनंद किशोर की भूमिका की जांच की मांग भी कर दी है. जानकार यहां तक बता रहे हैं कि उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आनंद किशोर को हटाने के लिए कहा है.

इसे भी पढ़ें –
36 में बदले रिश्तेः IAS आनंद किशोर पर फटा Minister अशोक चौधरी का गुस्सा
सोशल मीडिया पर भी top trend में #faketopper गणेश
कैबिनेट की बैठक में नहीं पहुंचे तेजस्वी, चौधरी और तेजप्रताप, पोलिटिकल कॉरिडोर में फुसफुसाहट