जल्द ख़त्म होगी बिहार के प्राइवेट स्कूलों की मनमानी

photo

पटना : देश के कई राज्यों की तरह अब बिहार सरकार भी प्राइवेट स्कूलों की मनमानी पर लगाम लगाने जा रही है. बिहार सरकार ने स्कूलों की मनमानी पर नियंत्रण के लिए फीस रेग्यूलेशन प्रस्ताव बना लिया है. फिलहाल इसे शिक्षा मंत्री के विचारार्थ भेजा गया है. शिक्षा मंत्री की स्वीकृति के बाद इस प्रस्ताव पर मंत्रिमंडल की सहमति प्राप्त कर इसे लागू किया जा सकेगा.

एक प्रमुख अखबार की खबर के अनुसार बिहार के शिक्षा विभाग ने तमिलनाड, कर्नाटक, राजस्थान और दिल्ली के प्राइवेट स्कूलों में फीस नियंत्रण के लिए बनाए गए कानून का अध्ययन करने के बाद बिहार का फीस रेगुलेशन प्रस्ताव बनाया है. शिक्षा विभाग ने अपर सचिव के. सेंथिल कुमार की अध्यक्षता वाली कमेटी को फीस रेगुलेशन प्रस्ताव तैयार करने का जिम्मा सौंपा था. कमेटी ने अब अपना प्रस्ताव तैयार कर सरकार को सौंप दिया है.

students

यह कानून लाकर बिहार सरकार तय कर सकती है कि प्राइवेट स्कूल और अन्य शैक्षणिक संस्थानों में छात्रों से कितनी फीस ली जानी चाहिए. साथ ही संस्थान वर्ष में एक बार में फीस में कितनी वृद्धि कर सकते हैं. फीस का निर्धारण स्कूल में छात्रों की संख्या और संस्थान के इंफ़्रास्ट्रक्चर पर भी निर्भर करेगी. बहुत संभावना है कि इस महीने के अंत तक प्रस्ताव पर सरकार ठोस निर्णय ले लेगी.

बता दें कि पटना हाईकोर्ट ने एक अपील पर सुनवाई करते हुए राज्य सरकार को निर्देश दिया था कि प्राइवेट स्कूल और शैक्षणिक संस्थानों की फीस व वहां व्याप्त अन्य अनियमितताओं पर अंकुश के लिए कानून बनाए. जिसके बाद शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी की सहमति के बाद अपर सचिव के. सेंथिल कुमार की अध्यक्षता में एक टीम गठित की गई थी.

यह भी बतातरे चलें कि इस प्रस्ताव में दूसरे राज्यों में लागू फीस कानून का हवाला देकर साफ़ कहा गया है कि बिहार में निजी संस्थान, स्कूल छात्रों से अधिक फीस ले रहे हैं. दूसरे राज्यों में निजी स्कूलों में फीस निर्धारित करने का अधिकार सरकार के पास है. बिहार में भी यह व्यवस्था अपनाई जा सकती है.

यह भी पढ़ें –
CBSE के हजार स्‍कूल लेते हैं सिर्फ ठेका, 500 करोड़ का धंधा, CBI जांच के लिए पप्‍पू ने पत्र लिखा
CBSE 12th Results: इकोनॉमिक्स में मिले थे 9, री-चेकिंग हुई तो आ गए 45
GANGS OF CBSE (1) : धंधा बहुत गंदा है, 500 करोड़ का सालाना बाजार है बिहार
GANGS OF CBSE (2) : स्टिंग में खुलासा, खुली ठेकेदारी है स्कूलों की, पता सबों को है