तेजस्वी से क्या बात हुई, जनता को बताएं नीतीश : राजीव रंजन

RAJIV-RANJAN
राजीव रंजन

पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के बीच मंगलवार की शाम हुई मुलाकात के बाद महागठबंधन के दोनों दलों में टकराव कम होने के संकेत आ रहे हैं. लेकिन इस मुद्दे पर भी अब भाजपा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेर रही है. पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व इस्लामपुर के पूर्व विधायक राजीव रंजन ने कहा है कि नीतीश कुमार और जदयू शुरू से भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस रखने का जो भ्रम जनता के बीच फैला रहे थे, उसका गुब्बारा कल शाम तेजस्वी यादव से मुख्यमंत्री की मुलाकात के बाद फूट गया है. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ नीतीश कुमार की यह कैसी नीति है जो सामने वाले नेता का चेहरा देख तय होती है.

राजीव रंजन ने कहा कि अगर नीतीश जी के सामने जीतन राम मांझी जी या अन्य गरीब नेता होते हैं तो जीरो टॉलरेंस के नाम पर उनका इस्तीफा जबरन ले लिया जाता है लेकिन सामने अगर तेजस्वी जैसे नेता हों तो नीतीश की नीतियां ही जीरो हो जाती है. इस मुद्दे पर हमारी पार्टी शुरुआत से ही दोनों दलों पर आपस में नूराकुश्ती खेलने की जो बात कह रही थी उसे कल इन दोनों ने साबित कर दिया.

RAJIV-RANJAN
राजीव रंजन

उन्होंने कहा कि इस ड्रामे की शुरुआत में नीतीश जी तेजस्वी से भ्रष्टाचार के मुद्दे पर उनके निर्दोष होने के सबूत मांग रहे थे, जिसे लेकर जदयू के प्रवक्ताओं ने तेजस्वी के इस्तीफे को लेकर जमीन-आसमान तक एक कर दिया था. ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर तेजस्वी यादव ने नीतीश जी को कौन से गुप्त सबूत दिए हैं जिससे नीतीश जी पूरी तरह संतुष्ट हो गए हैं? सवाल यह भी उठता है कि नीतीश जी उन तथ्यों को जनता के सामने कब सार्वजनिक कर रहे हैं?”

साथ ही एक अंग्रेजी चैनल द्वारा जारी जदयू नेताओं के स्टिंग का जिक्र करते हुए भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि नीतीश जी की नीतियों की पोल अब उनके ही वरिष्ठ नेतागण खोल रहे हैं. उनके राष्ट्रीय महासचिव ने महागठबंधन में कोई आइडियोलॉजी नहीं होने की बात स्वीकार कर भाजपा के आरोपों को सही साबित किया है. अपनी कुर्सी के लालच में तेजस्वी यादव के इस्तीफे के मुद्दे पर नीतीश जी द्वारा कुछ नही करने की जो बात हम शुरू से कह रहे हैं, उनके राष्ट्रीय महासचिव ने कारणों के साथ उसकी व्याख्या ही की है. लेकिन कितना भी खुलासा हो जाए परिवार और सत्ता के लोभ में डूबे लालू और नीतीश जी की इस जोड़ी को कोई फर्क नही पड़ने वाला.

यह भी पढ़ें –

‘भाजपा जब बिहार में आपराधिक चरित्र के लोगों को टिकट बांट रही थी,तब कहां थे मोदी’

यही था वह शुभ मुहूर्त जब लालू परिवार ने करवाया था रुद्राभिषेक, बदलने लगे हैं बयानों के सुर

CBI रेड पर अब बनेगी आगे की रणनीति, तेजस्वी यादव चले दिल्ली