किस विचारधारा से लालू प्रसाद ने बनाई है 1000 करोड़ की बेनामी संपत्ति: सुमो

पटना (नियाज आलम) : शनिवार को भाजपा नेता और पूर्व उप—मुख्यमंत्री सुशील मोदी फिर एक बार राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को घेरने की कोशिश करते नज़र आए. सुमो ने महागठबंधन से जो हमला बोलना शुरू किया था वह राष्ट्रपति चुनाव में नीतीश द्वारा रामनाथ कोविन्द के समर्थन और उसस उपजी कलह तक जारी रहा. इस मौके पर सुमो लालू प्रसाद को अवसरवादी और तेजस्वी को नौसीखिया तक कह गए.

शनिवार को पूर्व उप—मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने महागठबंधन पर जमकर हमला बोला. सुमो बोले,’ राष्ट्रपति चुनाव को विचारधारा की लड़ाई कहने वाले लोग बताएं कि सत्ता का दुरुपयोग कर घोटाले करना और काम के बदले लोगों की करोड़ों की जमीन लिखवा कर बेनामी सम्पत्ति बनाना कौन-सी विचारधारा है? लालू प्रसाद किस सिद्धांत के तहत लगातार 18 बार से पार्टी के अध्यक्ष चुने जा रहे हैं? लोहिया-जेपी का नाम लेने वाले लोगों ने गैर-कांग्रेसवाद को भूल कर सोनिया गांधी से क्यों हाथ मिला लिया?

जबकि उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर तंज कसते हुए सुमो ने कहा कि,’तेजस्वी प्रसाद यादव को राजनीति में आए अभी जुमा-जुमा चार रोज हुए हैं और वह गठबंधन के नेता तथा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बयान पर बेतुकी टिप्पणी कर उनका अपमान कर रहे हैं. वे विधायक बनने के बाद पहली बार राष्ट्रपति का चुनाव देख रहे हैं, इसलिए उन्हें पता नहीं है कि इसमें जीत-हार तय होती है. राष्ट्रपति चुनाव क्रिकेट की तरह अनिश्चित हार-जीत का खेल नहीं है. जब एनडीए प्रत्याशी रामनाथ कोविंद के समर्थन में 28 दल, 20 मुख्यमंत्री और 65 प्रतिशत निश्चित मत सामने है, तब लालू प्रसाद कांग्रेस की गोद में बैठकर बिहार की बेटी मीरा कुमार का अपमान कराने पर उतारू क्यों हैं?’

सुमो ने इस हमले में महागठबंधन में सहयोगी कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया. सुमो बोले,’कांग्रेस ने बाबू जगजीवन राम को भी अपमानित किया था, इसलिए वे जेपी के साथ आ गए थे. राष्ट्रपति चुनाव में करारी हार को साफ देख कर बौखलाए राजद के नेता रघुवंश प्रसाद सिंह और भाई वीरेंद्र राज्य के मुख्यमंत्री के लिए धोखेबाज-पलटीमार जैसे ओछे शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं. ऐसे में जद-यू को तय करना है कि वह अपमान का घूंट पीकर कब तक सत्ता में बने रहना चाहता है.’


सुमो ने लालू प्रसाद के परिवार पर हमला बोलते हुए कहा कि,’माल,मिट्टी और 1000 करोड़ के बेनामी सम्पत्ति मामले में फंसे लालू परिवार के लोग संतुलन खो चुके हैं. स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने अध्यक्ष लालू प्रसाद के सामने ही पार्टी कार्यकर्ता सनोज यादव की लात-जूतों से पिटायी कर दी. क्या यह सिद्धांत की राजनीति है?’

यह भी पढ़ें :-
श्याम रजक बोले राजद-कांग्रेस की ओर से भी कोविंद को मिलेगा वोट
कॉनफिडेंट हैं नरेंद्र मोदी, कोविंद ही बनेंगे राष्ट्रपति!