‘शहाबुद्दीन को पार्टी में रखने वाले लालू, प्रभुनाथ को क्यों निकालेंगे?’

पटना : बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने गुरुवार को गिरफ्तार हुए राजद नेता प्रभुनाथ सिंह को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि मो. शहाबुद्दीन जैसे लोगों को अपनी राष्ट्रीय कार्यसमिति में रखने वाले लालू प्रसाद हत्या के एक मामले में सजायाफ्ता हुए प्रभुनाथ सिंह को भला पार्टी से क्यों निकालेंगे? प्रभुनाथ सिंह तो लालू प्रसाद के साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भी करीबी रहे हैं जिन्हें वर्षों तक जदयू संसदीय दल का नेता बना कर रखा गया था.

मोदी ने तंज करते हुए कहा कि बिहार में सुशासन की सरकार तो शहाबुद्दीन, प्रभुनाथ, रॉकी, सुरेन्द्र और राजबल्लभ जैसे लोगों पर ही टिकी हुई है. उन्होने कहा कि लालू प्रसाद बयान दे रहे हैं कि इनकम टैक्स की छापेमारी कहीं हुई नहीं, झूठा प्रचार किया जा रहा है. अगर छापेमारी नही हुई तो फिर राजद के गुंडों ने बौखला कर लाठी, पत्थर और शराब की खाली बोतलों से भाजपा के कार्यालय पर हमला क्यों किया? वहीं नीतीश  कुमार कह रहे हैं कि कहां छापेमारी हुई, कहीं दिखाई तो पडा नहीं. यानी वे आईटी वालों को आमंत्रित कर रहे हैं कि लालू जी की अधिसंख्य सम्पति तो बिहार में है, अगर पटना तथा 10 सर्कुलर रोड में छापेमारी हो तब तो यहां के लोगों को पता चलेगा.

sushil.collage.jpg

मोदी ने कहा कि लालू प्रसाद ठीक कह रहे हैं कि प्रेमचन्द गुप्ता तो बिना पैसे के एक धुर जमीन नहीं देते हैं. प्रेमचन्द गुप्ता ने लालू प्रसाद को पटना में जो 200 करोड़ की जमीन दी, जिस पर बिहार का सबसे बड़ा मॉल बन रहा है, के एवज में पांच बार सांसद और पांच साल तक केन्द्र में मंत्री रह कर प्रेमचन्द गुप्ता ने क्या उसकी कीमत नहीं वसूल ली है? क्या इसी प्रकार विभिन्न फर्जी कंपनियों के जरिए अरबों की सम्पति लालू परिवार को दिला कर प्रेमचन्द गुप्ता ने हिसाब बराबर नहीं कर दिया है?

यह भी पढ़ें :

राजद के खिलाफ भाजपा का उग्र प्रदर्शन, फूंका लालू-नीतीश का पुतला

अशोक सिंह हत्याकांड में राजद नेता प्रभुनाथ सिंह गिरफ्तार

राजद का जवाबी FIR, सुशील मोदी-नित्यानंद राय नामजद