मोदी ने बदली चाल : नीतीश के प्रति सॉफ्ट हुए, लालू के खिलाफ और टाइट

पटना : बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने इन दिनों मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति नरम रुख अख्तियार कर लिया है. उन्होंने रविवार को नीतीश कुमार द्वारा कांग्रेस पर दिए गए बयान की सराहना की. मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार के इस बयान से भाजपा सहमत है कि कांग्रेस जैसी पार्टी की कोई विचारधारा नहीं.

सुशील मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने पहले गांधी की विचारधारा और बाद में नेहरू की नीतियों को भी तिलांजलि दे दिया. 18-20 सांसदों का नेता देश  का प्रधानमंत्री नहीं बन सकता है. अगर ऐसा हुआ तो देवगौड़ा और गुजराल की सरकार जैसी स्थिति होगी. वाकई मुख्यमंत्री जब पीएम की रेस में नहीं है तो उन्हें कांग्रेस जैसी भ्रष्टाचार की पर्याय पार्टी से सीख लेने की कोई जरूरत नहीं है.

मोदी ने कहा कि दरअसल, कांग्रेस ने तो गांधी की विचारधारा को वर्षों पहले तिलांजलि दे दिया था. गांधी को भी इसका अनुमान था इसलिए आजादी के बाद उन्होंने साफ तौर पर कहा था कि कांग्रेस का मकसद पूरा हो चुका है, अब इसे भंग कर देना चाहिए. मगर अपने सत्ता स्वार्थ में कांग्रेसियों ने गांधी के सुझाव को नहीं माना और लगातार उनके विचारों की हत्या करते रहे. लालू प्रसाद जैसों ने कांग्रेस से सीख लेकर ही भ्रष्टाचार के जरिए हजार करोड़ से अधिक की बेनामी संपत्ति एकत्र कर ली.

उन्होंने कहा कि ये वही कांग्रेस है जिसने देश में इमरजेंसी लगाई और जेपी सहित नीतीश कुमार सरीखे तमाम विरोधी नेताओं को जेल की यातना सहनी पड़ी. गैर कांग्रेसवाद की लड़ाई लड़ने वाले लोहिया के सिद्धांतों पर चलने वाले नीतीश कुमार भी अपनी पूरी जिन्दगी कांग्रेस से लड़ते रहे हैं. उन्हें कांग्रेस से अपने संबंधों पर पुनर्विचार करना चाहिए.

सुशील मोदी ने कहा कि कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने जिस तरह से नीतीश कुमार के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की है उसे कोई भी नेता बर्दाश्त नहीं कर सकता है. नीतीश कुमार ठीक कह रहे हैं कि उन्हें कांग्रेस से सीख लेने की जरूरत नहीं है.

यह भी पढ़ें –
कैश वैन से लूटे थे 22 लाख, अब जांच के लिए पहुंचे हैं मनु महाराज
जदयू का मंथन : लालू की रैली पर नीतीश का बड़ा बयान, बीजेपी पर भी साधा निशाना
लालू को गिरिराज की सलाह, कहा- नीतीश से जाकर माफी मांगें