बिहार बोर्ड का बड़ा एलान : स्क्रूटनी की फीस कम हुई, बेवजह फेल छात्रों को तुरंत मिलेगी राहत

anand

पटना : बिहार बोर्ड के बारहवीं के नतीजों में हुई गड़बड़ियों को लेकर मचे हंगामा के बीच बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर ने आज मंगलवार को पटना में बड़े ऐलान किये. कोशिश परेशान छात्रों को राहत देने की है. कहा गया है कि यदि कोई गलत मूल्यांकन है और छात्र किसी प्रतियोगिता परीक्षा में पास कर गए हैं, तो सुधार कर उन्हें आगे किसी नामांकन से वंचित नहीं होने दिया जाएगा. आज हुए अन्य एलान हैं –

  1. बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड ने स्क्रूटनी की दर 120 रूपये से घटाकर 70 रूपये प्रति विषय कर दिया है. सभी प्रमंडलीय मुख्यालयों पर छात्रों का स्क्रूटनी फॉर्म लिया जा रहा है. जो 120 रूपये जमा कर चुके हैं, उन्हें 50 रूपये प्रति विषय की वापसी होगी.
  2. सबसे पहले उन छात्रों की उत्तर पुस्तिकाओं की जांच प्राथमिकता के आधार पर होगी, जिन्होंने किसी भी प्रकार की प्रतियोगिता परीक्षा यानि IIT, NEET कम्पलीट कर लिया हो. बाकी सभी छात्रों की जांच भी 30 जून तक पूरी हो जाएगी. बोर्ड किसी भी छात्र को उनके वास्तविक अंक से वंचित नहीं करना चाहता है.
  3. सभी जिलों में स्क्रूटनी व जांच होगी. आवश्यक व्यवस्था के लिए कल 7 जून को सभी DEO/DSE के साथ वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग की जायेगी.
  4. बोर्ड ने 2005 से 2016 तक के सभी परीक्षार्थियों का डाटा ऑनलाइन कर दिया है. 1986 से 2004 तक के परीक्षार्थियों का डाटा भी अगले कुछ महीनों में ऑनलाइन कर दिया जाएगा. इसमें परीक्षार्थी का परिचय और अंक दिखेगा.
  5. बोर्ड Duplicacy पकड़ने को विशेष सॉफ्टवेयर विकसित कर रहा है, जिसके माध्यम से उम्र घटाने अथवा और किसी अज्ञात कारण से दुबारा परीक्षा देने के मामले को पकड़ लिया जाएगा. इसके बाद भी कोई फर्जीवाड़ा करेंगे, तो कानून की धाराओं के तहत आवश्यक कार्रवाई की जायेगी. यह सॉफ्टवेयर इतना डेवलप होगा कि कोई भी पहचान नहीं बदल सकेगा.
इसे भी पढ़ें –
अब 7 जून को BSEB की तालाबंदी करेंगे पप्पू
इंटर के छात्रों का नहीं थम रहा आक्रोश, सातवें दिन भी हंगामा जारी
AISF ने किया इंटर काउंसिल कार्यालय का घेराव, चक्का जाम, सीएम से मांग रहे हैं जवाब
GANGS OF CBSE (1) : धंधा बहुत गंदा है, 500 करोड़ का सालाना बाजार है बिहार