सोनिया गांधी की गारंटी : तेजस्वी देंगे इस्तीफा, नीतीश-लालू रहेंगे साथ-साथ

पटना : बिहार गंभीर सियासी संकट के दौर से गुजर रहा है. आज शुक्रवार की सुबह तक न नीतीश कुमार मुड़ने को तैयार थे, न लालू प्रसाद यादव झुकने के मूड में थे. पिछले कई दिनों से दोनों के बीच बातचीत हो जाने का कोई रास्ता भी नहीं निकल रहा था. राजद और जदयू के प्रवक्ता तलवार निकाले बैठे थे, जिनसे तीखे हमले हो रहे थे. लेकिन इसी बीच आज पूर्वाहन में कांग्रेस की नेशनल प्रेसिडेंट सोनिया गांधी सक्रिय हुईं. उनकी प्राथमिकता किसी भी तरीके से बिहार में महागठबंधन को बचाना था, ताकि भाजपा को कोई स्पेस न मिले. इसके लिए बिहार की रणनीति पर सोनिया गांधी ने गुरुवार को ही दिल्ली में बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष सह शिक्षा मंत्री डॉ. अशोक चौधरी और राजस्व व भूमि सुधार मंत्री डॉ. मदन मोहन झा से मंत्रणा की थी. दोनों आज सुबह ही दिल्ली से वापस आये थे.

सोनिया गाँधी ने शुरुआत की तो सबसे पहले लालू प्रसाद और नीतीश कुमार को फ़ोन किया. दोनों को सुनने के बाद आगे का रास्ता तलाशा जाने लगा. लालू प्रसाद रांची में थे, जिन्हें शाम को पटना लौटना था. पटना में जदयू के प्रवक्ता फायरब्रांड बने हुए थे. लेकिन, सोनिया गाँधी की पहल जब कई बार की बातचीत के बाद आगे बढ़ी, तो दृश्य बदलने लगे. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अशोक चौधरी ने पहले नीतीश कुमार और फिर देर शाम को लालू प्रसाद से मुलाक़ात की. अब जानिये सोनिया गाँधी के फ़ॉर्मूले के तहत आगे क्या-क्या हो सकता है –

1 . तेजस्वी यादव डिप्टी सीएम के पद से इस्तीफा देंगे. लेकिन इसके साथ लालू प्रसाद की कई शर्तें हैं, जिनपर नीतीश कुमार को निर्णय करना होगा. राजद के दूसरे मंत्री सरकार में बने रहेंगे. और कोई बदलाव लालू प्रसाद चाहें, तो राजद कोटे के मंत्रियों में होगा.

2 . कोई नया डिप्टी सीएम नहीं होगा. कुछ मीडिया घरानों में लालू प्रसाद की दूसरी बेटी रोहिणी आचार्या को डिप्टी सीएम बनाए जाने की बात अबतक गलत है. तेजस्वी यादव के पास रहे पथ निर्माण और भवन निर्माण जैसे महत्वपूर्ण विभाग राजद कोटे के मंत्रियों के पास ही रहेंगे.

3 . तेजस्वी यादव इस्तीफा कब देंगे, अभी समय निर्धारित नहीं है. यह राष्ट्रपति चुनाव के बाद भी हो सकता है. 16 जुलाई को कांग्रेस और राजद के विधायक मीटिंग करेंगे.

4 . जदयू के प्रवक्ता अब तेजस्वी यादव पर सीधा अटैक नहीं करेंगे. राजद की ओर से भी उकसाने वाले वक्तव्य नहीं दिये जायेंगे. जदयू के राष्ट्रीय महासचिव के सी त्यागी ने रात को स्पष्ट कर दिया कि बिहार में गठबंधन पर कोई खतरा नहीं है. लालू प्रसाद के घर से निकलने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी भी ऐसा ही बोले.

5 . बताया जा रहा है कि सोनिया गाँधी ने नीतीश कुमार से बातचीत में यह स्पष्ट कर लिया है कि भाजपा से गठबंधन का कोई इरादा नहीं है. देश भर में विपक्षी एका के लिए प्रयास किया जाएगा. जल्द ही दिल्ली में सोनिया गाँधी और नीतीश कुमार की मुलाक़ात होगी.

यह भी पढ़ें –

नीतीश से मिले अशोक चौधरी, सुलह की कोशिशें तेज

सोनिया ने फोन पर की लालू-नीतीश से बात, कहा- साथ रहने में भलाई है

लालू बोले – सत्‍यमेव जयते, तेजस्‍वी ने कहा – भूंजा खाओ, मस्‍त रहो

अब लालू की छोटी बेटी राजलक्ष्मी ने सुमो को किया है चैलेंज, जानिए- क्या है ये पंगा

पप्‍पू बोले : लालू ‘बलिदानी’ दिखने को तेजस्‍वी की बर्खास्‍तगी चाहते हैं , दूसरे को मौका नहीं देंगे