जेल IG ने की कार्रवाई, रखते थे कुख्यात अपराधियों से सांठ-गांठ

पटना : रोसड़ा सब जेल के पूर्व असिस्टेंट जेल सुपरिटेंडेंट सुधीर कुमार को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है. जेल आईजी आनंद किशोर की ओर से ये कार्रवाई की गई है. हालांकि पिछले 8 महीने से सुधीर कुमार सस्पेंड चल रहे थे. जेल आईजी के आदेश पर 22 नवंबर 2016 को ही उन्हें सस्पेंड कर दिया गया था. इसके बाद जेल आईजी ने डिपार्टमेंटल कार्रवाई का आदेश देते हुए एक कमेटी बनाई और सुधीर कुमार के खिलाफ जांच कर रिपोर्ट सौंपने को कहा था.

दरअसल, पद पर बने रहने के दौरान सुधीर कुमार पर कई गंभीर आरोप लगे थे. जो कमेटी की जांच में सही पाया गया. फिर कमेटी की रिपोर्ट मिलते ही आनंद किशोर ने कार्रवाई की और सुधीर कुमार को सीधे सेवा से बर्खास्त कर दिया.

कुख्यात कैदियों से थी सांठ गांठ

बतौर असिस्टेंट जेल सुपरिटेंडेंट सुधीर कुमार का कार्यकाल हमेशा गंभीर आरोपों से घिरा रहा है. उन पर जेल में बंद कुख्यात कैदियों से सांठगांठ रखने का आरोप लगा. जांच के दौरान ये आरोप सही पाए गए. बताया जाता है कि कुख्यात कैदियों के साथ उठना—बैठना तो सुधीर कुमार के लिए आम बात थी. उनपर अलग—अलग तरीकों से कैदियों को फायदा पहुंचाने के भी आरोप हैं.

अवैध रूप से कमाए रुपए

कैदियों के साथ संबंध होने के साथ ही सुधीर कुमार ने अवैध रूप से रुपयों की काफी कमाई की है. इस बात की भी पुष्टि जांच के दौरान हुई. उनके पास से मिले रुपयों का कोई हिसाब—किताब जांच कर रहे अधिकारियों को नहीं मिला था. जांच में पता चला कि जेल के अंदर ही सुधीर कुमार अवैध वसूली करता था. जेल में बंद कैदियों से मोटी रकम वसूला करता था.

अधिकारी व कैदियों से करते थे मिसबिहैव

सुधीर कुमार पर एक और गंभीर आरोप है. अपने सीनियर, महिला सहित जेल में तैनात दूसरे स्टाफ के साथ ही कैदियों के साथ भी वो मिसबिहैव करते थे. ऐसी घटनाएं अक्सर होती थी. जिसकी कंप्लेन कई बार जेल आईजी तक पहुंची थी. शेखपुरा डिवीजन जेल के सुपरिटेंडेंट हों या फिर महिला स्टाफ हर किसी के साथ सुधीर कुमार मिसबिहैव करते थे. कैदियों के साथ भी इनका रवैया सही नहीं रहा है. जिस कारण जेल के अंदर का माहौल अक्सर खराब हो जाता था.

नहीं दिया सही जवाब

पूरे मामले की जांच की जिम्मेवारी जेल आईजी ने बेउर जेल में पोस्टेड रूपक कुमार को सैौंपी. 9 मई को ही रुपक कुमार ने सुधीर कुमार के खिलाफ किए गए जांच की रिपोर्ट जेल आईजी को सौंप दी थी. रिपोर्ट में सुधीर कुमार पर लगे सारे आरोप सही पाए गए थे. इसलिए उनसे पूरे मामले पर स्पष्टीकरण मांगा गया था. लेकिन उनके दिए गए जवाब से जेल आईजी संतुष्ट नहीं हुए. फिर कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू कर दी गई. साफ तौर पर ये कह दिया गया सुधीर कुमार का आचरण सही नहीं है और इसलिए उन्हें किसी भी जेल में ड्यूटी पर लगाया नहीं जा सकता. इस वजह से उन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है.

यह भी पढ़ें –

महागठबंधन पर CM नीतीश कुमार ने तोड़ी चुप्पी, दिल्ली में दिया बड़ा बयान

अब राम जेठमलानी बचाएंगे तेजस्वी यादव को, आज की मीटिंग में CBI पर बनेगी रणनीति

कृष्णा सिंह हत्याकांड में दानिश रिजवान के घर हुई कुर्की जब्ती