डिप्टी सीएम तेजस्वी के सुरक्षाकर्मी-पत्रकार भिड़ंत की होगी उच्चस्तरीय जांच

लाइव सिटीज डेस्क: बुधवार को कैबिनेट मीटिंग से बाहर निकलते वक्त उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के सुरक्षाकर्मियों और पत्रकारों के बीच धक्का—मुक्की हुई थी. मामले के तूल पकड़ने के बाद तेजस्वी यादव ने इस पूरे मामले पर पहले फेसबुक पोस्ट फिर वीडियो जारी करके सफाई दी थी और खेद भी जताया था. अब इस मामले की उच्चस्तरीय जांच का फैसला किया गया है.

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया कि तेजस्वी यादव ने सुरक्षा​कर्मियों और पत्रकारों के बीच धक्का-मुक्की मामले की जांच का भरोसा अपनी फेसबुक पोस्ट मे दिया था. अब इस मामले की जांच एडीजी लॉ एंड आॅर्डर आलोक राज करेंगे. जांच के प्रमुख बिन्दु क्या होंगे, इसका पता अभी नहीं चल सका है. हालांकि सूत्र बताते हैं कि उन्हें जांच पूरी करके 72 दिन में रिपोर्ट देने के ​निर्देश दिए गए हैं.

हालांकि तेजस्वी यादव और मीडिया के बीच टकराव की खबरें कोई नई बात नहीं हैं. इससे पहले भी राजद की बैठक के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में पहुंची एक अंग्रेजी चैनल की पत्रकार को उप—मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने प्रेसवार्ता से बाहर निकलने के लिए कहा था. तेजस्वी ने यह भी कहा था कि उनका चैनल राष्ट्र विरोधी है और पीएम मोदी और अमित शाह के कहने पर उनके परिवार को निशाना बना रहा है. हालांकि उस वक्त भी तेजस्वी के बगल में बैठे राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने मीडिया से बदसलूकी पर टोंका था.

बताते दें कि सीबीआई और ईडी की छापेमारी से परेशान राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और उनका परिवार कोई नया विवाद नहीं चाहता है. ऐसे कठिन समय में जब हर सरकारी एजेंसी उनकी जांच कर रही हो, जाहिर है मीडिया की नाराजगी वह नहीं लेना चाहते. लेकिन राजद सुप्रीमो अपनी पूरी रौ में हैं. गुरुवार को उन्होंने ट्वीट करके आरोप लगाया था कि मीडिया और संपादक अमित शाह के कहने पर काम कर रहे हैं और उनके परिवार को निशाना बना रहे हैं.

यह भी पढ़ें :-

Exclusive : नीतीश को भाजपा के साथ नहीं जाने देंगे लालू, तेजस्वी संग सभी मंत्री देंगे इस्तीफा!
लालू प्रसाद का पलटवार, संपादकों के प्रमुख संपादक हैं अमित शाह