रघुवंश सिंह के बचाव में आए तेजस्वी, बोले- घर का मामला है हम आपस में बात कर लेंगे

tejaswi-1.jpg

लाइव सिटीज डेस्क : राजद नेता रघुवंश सिंह ने एक बयान में केन्द्र सरकार और बिहार सरकार को हर मोर्चे पर विफल बताया था. इसके बाद राजद और जदयू में जुबानी जंग शुरू हो गई थी.

इन सब के बीच बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने राजद के सीनियर लीडर रघुवंश सिंह का बचाव किया है. तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा है कि ये घर का मामला है. हम आपस में बात कर लेंगे. उन्होंने आगे ट्वीट में कहा है कि रघुवंश पार्टी के सीनियर नेता है और उनका बयान निजी है.

दरअसल राजद नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने केंद्र और बिहार सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि केन्द्र और बिहार की नीतीश सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है.  रघुवंश सिंह के इस बयान के आने के बाद बिहार की सियासत गरमा गयी.  जदयू और राजद आमने-सामने आ गये . जदयू के संजय सिंह, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से ही सवाल पूछ बैठें. संजय सिंह, लालू प्रसाद से सवाल कर बैठा है कि वे कब तक रघुवंश सिंह से गाली सुनवाते रहेंगे. उन्होंने कहा है कि रघुवंश सिंह कब तक जदयू और उनके नेताओं को गाली बकते रहेंगे. संजय सिंह ने यहां तक कहा है कि रघुवंश सिंह बीजेपी के एजेंट हैं और राजद उन्हें पार्टी से जल्दी निकाले. संजय सिंह के इस बयान के बाद तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर रघुवंश सिंह का बचाव किया है और इस घर का मामला बताया है.

वहीं आज मंगलवार को डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर मीडिया पर भी तंज कसा है. उन्होंने केन्द्र की सहयोगी पार्टी शिवसेना के बयान को कोट करते हुए मीडिया से सवाल किया है. तेजस्वी यादव ने शिवसेना के मुख्यपत्र सामना में छपे लेख का हवाले देते हुए ट्वीट किया है कि हमारी छींक पर भी ख़बर बनती है लेकिन इनके सहयोगी का गाली-गलौज भी कभी TVकी ख़बर नहीं बनता? क्यो? सोचिए,समझिए,विचारिए?

दरअसल शिवसेना के मुख्यपत्र सामना में केन्द्र की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने केन्द्र सरकार पर जमकर हमला बोला है. सामना में छपे संपादकीय शिवसेना ने कहा है कि नरेंद्र मोदी सरकार ने पूर्व संप्रग सरकार द्वारा शुरू की गई परियोजनाओं का सिर्फ उद्घाटन करने या उनका नाम बदलने का ही काम किया है और उसने अपने तीन साल के शासन में नोटबंदी को छोड़कर कुछ भी उपलब्धि हासिल नहीं की है.

शिवसेना का केन्द्र सरकार को लेकर दिए गये इस बयान को ही आधार पर डिप्टी सीएम ने मीडिया को भी घेरे में लिया है. तेजस्वी यादव लगातार ट्वीटर पर अपने विरोधियों का जवाब देते रहते हैं. देखने यह है कि बिहार के डिप्टी सीएम के इन ट्वीट्स के बाद जे़डीयू और बीजेपी की तरफ से क्या जवाब आता है.

यह भी पढ़ें- जदयू ने लालू प्रसाद से पूछा, कब तक रघुवंश सिंह से दिलवाते रहेंगे गाली!