वीडियो : मोहन भागवत बोले – आपसी द्वेष और दुर्भावना से दूर रहें, लोगों को आपस में जोड़ें

आरा (पुष्कर पांडेय): चंदवा स्थित चकरापुरी की पवित्र भूमि पर संतों महात्माओं पीठाधीश्वर का समागम है. दक्षिण भारत के कई मठों के पीठाधीश्वर यहां उपस्थित हैं. इन पीठाधीश्वर के स्वागत के लिए समिति के लोग लगे हुए थे. इन पीठाधीश्वरों का अभिनंदन परम पूज्य श्री जीयर स्वामी जी महाराज खुद कर रहे थे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जाने के बाद शाम 4 बजे संघ प्रमुख मोहन भागवत का आगमन हुआ. जेड सुरक्षा के बीच प्रशासनिक अधिकारियों ने मंच तक संघ प्रमुख मोहन भागवत को पहुंचाया. वहां उनका भव्य तरीके से स्वागत किया गया. संत महात्माओं के बीच मोहन भागवत ने काफी प्रफुल्लित थे.

मंच से संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि हम सब भारत मां की संतान हैं. संदेश तो हमारी सनातन परंपरा का है. जिसकी प्राप्ति के लिए इस विशाल यज्ञ का आयोजन किया गया है. श्री रामानुजाचार्य जैसे संतों के संदेश का हमें नित्य स्मरण एवं जीवन में अनुसरण करना चाहिए. परिस्थितियां अनुकूल या प्रतिकूल हो सकती हैं. हमारी सारी इंद्रियां बाहर देखने वाली होती हैं, लेकिन सबको नियंत्रित करने वाला स्वामी हमारे हृदय में बैठा है. उसे देखने वाली कोई इंद्रिय नहीं है. बाहर हम कुछ भी देखें लेकिन जो अंदर है, उस पर श्रद्धा रख कर चलना चाहिए. देखिए हमें किसी के प्रति विद्वेष और दुर्भावना नहीं रखनी चाहिए. संतों का समागम होता है. यहां क्लिक कर देखें वीडियो भी.

विश्व धर्म सम्मेलन को संबोधित कर रहे मोहन भागवत ने कहा, हमें अपने समाज और देश के संकट को भी देखने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि चाहे कैसी भी परिस्थितियां रहें, हमें अपने पूर्वजों के बताये रास्ते पर ही चलना होता है. इसी से हम सभी का कल्याण होता है. वही विश्व का कल्याण कर सकते हैं क्योंकि उनके बताए हुए मार्ग कभी गलत नहीं होते. जो लोग पूर्वजों में आस्था नहीं रखते उनका जीवन सफल नहीं होता. पूर्वजों पर आस्था रखनी चाहिये और उनके बताए रास्तों का अनुपालन करना चाहिए.

मोहन भागवत ने भगवान के बारे में कहा कि बहुत से लोग इस अभिलाषा में रहते हैं कि भगवान सामने आकर दर्शन देंगे, आप पर कृपा करेंगे. लेकिन भगवान किसी के साथ भेदभाव नहीं करते. भगवान भक्तों को बिन बताये उनके काम खुद कर देते हैं. लोग समझते हैं कि उन्होंने यह काम किया है, लेकिन वास्तव में भगवान ही मनुष्य के छोटे-छोटे कामों को कर देते हैं. भगवान अभाव और प्रभाव दोनों स्थितियों में भी हमेशा सबसे उपर होते हैं. संघ प्रमुख लोगों को एकता के सूत्र में पिरोने का संदेश दे रहे थे.

उन्होंने आपसी भाईचारा में विश्वास जताते हुए लोगों को आपस में जोड़ने का प्रयास करने को कहा. उन्होंने कहा कि छुआछूत से उपर उठ कर आज हमें स्वच्छ भारत बनाने और सबका विकास करने की जरूरत है. हमें अपने अंदर के नारायण का ध्यान करना चाहिए और बाहर के नारायण का ध्यान कर उनकी सेवा करनी चाहिए. संघ प्रमुख मोहन भागवत को सुनने के लिये सुबह से ही लाखों की संख्या में श्रद्धालु यज्ञ स्थल पर मौजूद थे.

RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN
अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरी, नया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)