नागमणि ने आमने-सामने भिड़ा दिया नीतीश-कुशवाहा को, खुद को मान रहे हैं ‘चाणक्य’

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार की सियासत में रह-रह कर नई-नई खबर आती रहती है. इस बार यह खबर रालोसपा के खेमे से ही आ रही है. रालोसपा के एक बड़े नेता ने अपने फेसबुक एकाउंट पर एक फोटो पोस्ट किया है. उस फोटो ने बिहार की सियासत में हलचल मचा दी है.

जी हां, बात कर रहे हैं रालोसपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष नागमणि की. उन्होंने अपने फेसबुक एकाउंट में पोस्ट किये गये फोटो में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को धनानंद बताया है. आपको बता दें कि इतिहास में धनानंद मगध ऐसे शासक के रूप में फेमस थे, जो केवल अपनी सुनते थे. उन्हें बाकी किसी से मतलब नहीं था.

खास बात कि वायरल हो रहे उस फोटो में रालोसपा प्रमुख व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा को सम्राट चंद्रगुप्त बताया गया है और उनके हाथ में तलवार को दिखाया गया है. उसी फोटो के बगल में नागमणि का फोटो है. फोटो में नागमणि खुद चाणक्य के रोल में हैं. उनके चेहरे पर ‘मुस्कान’ है. वहीं फोटो में नीतीश कुमार व उपेंद्र कुशवाहा को आमने-सामने दिखाया गया है.

रालोसपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष नागमणि ने फेसबुक पर पोस्ट तो किया है, लेकिन उस पर किसी तरह का उन्होंने कमेंट नहीं किया है. लेकिन, बिना कुछ कहे ​ही फोटो बहुत कुछ कह रहा है. वह बहुत कुछ संदेश दे रहा है. खास बात कि धनानंद बने नीतीश के हाथ में आर्म्स को दिखाया गया है. फोटो क्या-कुछ कह रहा है इसके लिए थोड़ा इतिहास में झांकने की जरूरत है.

मगध के शासक रहे धनानंद की कहानी किसी से छिपी नहीं है. इतिहास में झांकने से पता चलता है कि पा‍टलिपुत्र के राजसिंहासन पर नंद वंश के प्रथम शासक महापद्म नंद काबिज हुए थे. उन्होंने विशाल मगध साम्राज्य की स्थापना की. इसी मगध साम्राज्य के अंतिम नंद शासक के रूप में धनानंद ने उनकी गद्दी संभाली. बस इसी अंतिम धनानंद के शासन को उखाड़ फेंकने के लिए चाणक्य ने शपथ ली थी. इतिहास में धनानंद का नाम कुछ और था, लेकिन वे धनानंद के नाम से फेमस हुए. बाद में चाणक्य ने धनानंद की सत्ता उखाड़ फेंकी और चंद्रगुप्त सम्राट बने.

उधर बिहार के पॉलिटिकल कॉरिडोर में इस फोटो को लेकर तरह तरह की चर्चा होने लगी है. फोटो के माध्यम से क्या यह संदेश दिया जा रहा है कि रालोसपा बिहार में नीतीश कुमार को धनानंद मान रहा है. बिहार की सत्ता पर चंद्रगुप्त के रूप में उपेंद्र कुशवाहा को सत्तासीन किया जायेगा. दो दिन पहले राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने जिस ढंग से बीजेपी को हराने के लिए लोगों से उपेंद्र कुशवाहा, लालू प्रसाद और जीतनराम मांझी को एक मंच पर लाने के अपील की, क्या यह फोटो उसी रणनीति की अगली कड़ी है.

इन सब सवालों को लेकर लाइव सिटीज ने जब रालोसपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष नागमणि से फोन पर संपर्क किया तो बस इतना ही कहा कि उपेंद्र कुशवाहा हमेशा चंद्रगुप्त रहे हैं और आगे भी रहेंगे. धनानंद के बारे में बात करने पर इतना ही कहा कि उनके बारे में जो लोग समझ रहे हैं, वही सच है. उन्होंने कहा कि आगे के लिए बस समय का इंतजार कीजिए.