पॉलिटिकल कॉरिडोर में शोर : कहीं बागी तो नहीं बन गये हैं बिहारी बाबू

लाइव सिटीज डेस्क : कहीं बागी तो नहीं बन रहे हैं बिहारी बाबू. बिहार के राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा तेजी से उठ रही है. दरअसल भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने फिर अपनी ही पार्टी के खिलाफ बड़ा धमाका किया है. उनका एक सप्ताह के अंदर ही अपनी ही पार्टी के खिलाफ चौथा बड़ा धमाका है. एक बार फिर पटना के भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्वीट पर तंज कसा है.

बता दें कि इस बार भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने गुरुदासपुर में आए लोकसभा चुनाव के रिजल्ट को लेकर यह हमला किया है. अपने बयानों से पार्टी को हमेशा असहज करनेवाले शत्रुघ्न सिन्हा ने एक बार हमला करने का बहाना ढूंढ़ ही लिया. उन्होंने पंजाब के गुरुदासपुर में भाजपा को मिली करारी हार पर तीखी प्रतिक्रिया की है. उन्होंने ट्वीट पर लिखा है कि जैसी उम्मीद थी, वैसा ही रिजल्ट आया है. पार्टी को दो लाख वोटों से अपमानजनक हार मिली है.

शत्रुघ्न सिन्हा ने यह भी लिखा है कि पार्टी को आइना देखने की जरूरत है. उसे दीवार पर लिखी इबारत को पढ़ने की कोशिश करनी चाहिए. जनता के मूड का आकलन करना होगा. अगर जनता के मूड को पकड़ने में पार्टी नाकामयाब रही तो इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है. बिहारी बाबू ने इस संबंध में कई ट्वीट एक साथ किये हैं.

भाजपा सांसद ने ट्वीट के जरिए दिवंगत विनोद खन्ना का भी जिक्र किया है. उन्होंने कहा है कि पार्टी ने स्वर्गीय विनोद खन्ना के किसी करीबी को टिकट नहीं दिया. इससे उम्मीद हो गयी थी कि यह भाजपा के लिए ठीक नहीं हो रहा है. वैसा ही हुआ. भाजपा गुरुदासपुर में लगभग दो लाख वोटों से हार गयी. गौरतलब है कि गुरुदासपुर से कांग्रेस के सुनील जाखड़ ने भाजपा उम्मीदवार स्वर्ण सिंह सलारिया को लोकसभा के उपचुनाव में लगभग दो लाख वोटों से पराजित कर दिया.

बता दें कि एक सप्ताह के अंदर यह शत्रुघ्न सिन्हा का भाजपा व केंद्र के खिलाफ चौथा धमाका है. इसके पहले भाजपा सांसद ने पीयू मामले में ही दो बार निशाना साधा. दरअसल पीयू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम था, लेकिन शत्रुघ्न सिन्हा को न्यौता ही नहीं दिया गया था. यहां तक कि मोकामा में हुए पीएम के कार्यक्रम में उन्हें न्यौता नहीं दिया गया. इस पर उन्होंने तंज कसा कि उन्हें बुलावा ही नहीं आया.

इसके बाद उन्हें बुलावा आया तो उस पर बिहारी बाबू ने तंज कसा. उन्होंने साफ कहा कि शॉर्ट पीरिएड में उन्हें निमंत्रण दिया गया है. उन्होंने ट्वीट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टैग करते हुए लिखा कि ‘मुहब्बत करनेवाले कम नहीं होंगे, लेकिन तेरी महफिल में हम नहीं होंगे…’ इतना ही नहीं, एक न्यूज चैनल को भी पिछले सप्ताह दिये गये बयान में उन्होंने केंद्र की जीएसटी और नोटबंदी के खिलाफ हमला किया था और साथ ही यशवंत सिन्हा का भी समर्थन किया था. अब यह ताजा मामला गुरुदासपुर में भाजपा को मिली करारी हार पर है.