नियोजित शिक्षकों की समस्याओं का होगा निराकरण, शिक्षा मंत्री ने 21 को बुलाई बैठक

Ashok-Chaudhary.jpg
फाइल फोटो

पटना: बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के लगातार दवाब के बाद नियोजित शिक्षकों की दो वर्षों से लंबित सेवा शर्त नियमावली, नियमित वेतन भुगतान सहित अन्य मुद्दों के निराकरण के लिए शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने 21 जुलाई को 11 बजे पूर्वाह्न में अपने कार्यालय कक्ष में एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है.


यह जानकारी बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष केदारनाथ पांडेय (एमएलसी) और महासचिव शत्रुघ्न प्रसाद सिंह (पूर्व सांसद) द्वारा जारी संयुक्त बयान के आधार पर बिहार माध्यमिक शिक्षा संघ के मीडिया प्रभारी अभिषेक कुमार ने दी. उन्होंने बताया कि पिछले दिनों शिक्षा मंत्री से मिल कर संघ ने उन्हें नियोजित शिक्षकों की सेवा शर्त नियमावली के प्रकाशन, राज्य के माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षा में गुणवत्ता विकास, शिक्षकों के विभिन्न समस्याओं संबंधित ज्ञापन देकर सुझाव एवं ध्यान आकृष्ट कराया था तथा जल्द से जल्द इसके समाधान करने की मांग की थी.


संघ के ज्ञापन और सुझाव पर शिक्षा मंत्री ने इन समस्याओं के निराकरण के लिए महत्वपूर्ण बैठक बुलाई है.

इस बैठक में बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष और महासचिव, बिहार विधान परिषद के शिक्षक एवं स्नातक क्षेत्र के माननीय सदस्यों के साथ-साथ शिक्षा विभाग के आला अधिकारी एवं सचिव शामिल होंगे.

बैठक में माध्यमिक विद्यालयों के 2015-17 सत्र के प्रशिक्षित शिक्षकों के लंबित वेतन का भुगतान, वर्ष 2012-13 के पूर्व नियोजित शिक्षकों की वरीयता के आधार पर सवैतनिक प्रशिक्षण की व्यवस्था, माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक पदों पर शीघ्र नियुक्ति, माध्यमिक विद्यालयों में तृतीय व चतुर्थ पदों पर नियुक्ति, विज्ञान, गणित, अंग्रेजी, संस्कृति आदि रिक्त विषयों में शिक्षकों की नियुक्ति, उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालयों के लिए प्रबंधन की नीति, जम्मू-कश्मीर से बीएड की डिग्री प्राप्त करने वाले शिक्षकों के वेतन भुगतान, मदरसा के शिक्षकों के प्रशिक्षण सहित 19 एजेंडों पर विचार-विमर्श कर समाधान किया जायेगा.