‘ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए अधिकारियों को परेशान करते थे लालू’

पटना : जदयू के कद्दावर नेता व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी आरसीपी सिंह ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के आरोपों पर पलटवार किया है. उन्होंने लालू प्रसाद द्वारा लगाए गए आरोपों को सिरे से झूठ करार देते हुए उन्हें घमंडी नेता बताया. उन्होंने कहा कि लालू जी का एक पाँव जेल में है दूसरा पाँव कब्र में. लालू प्रसाद ने मंगलवार को अपने प्रेस कांफ्रेंस में आरसीपी सिंह को मुख्यमंत्री का कलेक्शन एजेंट बताया था. साथ ही उन्हें दागी अफसर भी कहा था.

सिंह ने आज बुधवार को लालू प्रसाद पर पलटवार करते हुए कहा – लालू प्रसाद ने अपनी मर्यादा खो दी है. कोई मुख्यमंत्री को तुम कहकर बोलता है क्या? मुझे नीतीश कुमार के नाक का बाल कहते हैं लालू, जबकि उनका बेटा उनके नाक का बाल नहीं हो सकत. लालू प्रसाद को मेरी चुनौती है किसी डीजीपी या किसी अधिकारी का नाम बताए जिसे मैंने फोन किया. एक आदमी को लालू सामने लाये और कहलवाए कि मैंने पैसा लिया.

RCP-SINGH-JDU
आरसीपी सिंह

उन्होंने कहा कि मैं खुद इन्कम टैक्स डिपार्टमेंट में था. अगर मैं भूमिगत होता फिर भी इनकम टैक्स का छापा मुझपर पड़ता. लालू बताएं कि कब ललन सराफ के घर इन्कम टैक्स का रेड पड़ा. लालू प्रसाद को पता है मैं 20 साल से नीतीश कुमार के साथ हूँ. 2005 से लालू मेरे पीछे पड़े हैं. उनके कारण मैंने VRS लिया था. लालू खुद कहते थे, बहुत अच्छा काम चल रहा है. वो खुद प्रशासनिक अधिकारियों को फोन करते थे. लालू यादव फोन सामाजिक कार्य के लिए नहीं बल्कि ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए करते थे. चोर के दाढ़ी में तिनका. लालू प्रसाद को कैसे पता था कि शराब की होम डिलीवरी होती है. यदि होम डिलीवरी होती थी तो लालू बताएं उनके घर या उनके जानने वाले के घर होम डिलीवरी होती थी क्या?

जदयू नेता ने कहा कि नीतीश कुमार को महागठबंधन का नेता बनाया गया था. नीतीश लौट कर पटना आ गए थे. उस समय की परिस्थिति और उनके ऑफर के कारण जदयू उनके साथ गई थी. नीतीश कुमार के डिक्शनरी में गिड़गिड़ाना नहीं है. क्यों लालू के सामने गिड़गिड़ाएंगे नीतीश? लालू के सामने कभी नीतीश गिड़गिड़ा नहीं सकते. लालू खुद किनके सामने गिड़गिराये, वे बताएं.

सिंह ने ये भी कहा कि लालू खुद लफ्फाजराम हैं, वे क्या किसी को पलटू कहेंगे. जब हम लालू यादव के साथ गए थे हमें सिर्फ चारा का पता था, लारा का पता तो अब चला है.