‘जीतनराम मांझी को रिमोट पर नचाते थे सुशील मोदी, लेकिन नीतीश ने सब भांप लिया था’

पटना : जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने भाजपा नेता सुशील मोदी पर तंज करते हुए सवाल किया है कि वो भविष्यवक्ता कब से बन गए हैं? उनका भविष्य अंधकार में है. उन्होंने कहा कि सुशील मोदी महागठबंधन में फूट डालना चाहते हैं. लेकिन उनकी ये मंशा कभी सफल होने वाली नही है. महागठबंधन की चट्टानी एकता कभी नही टुटने वाली है.

सिंह ने कहा कि नीतीश कुमार के शासन प्रणाली पर किसी ने सवाल नही उठाया है. लालू प्रसाद जानते है कि नीतीश कुमार एक काबिल मुख्यमंत्री रहे हैं और हैं भी. उन्होंने कहा कि सुशील मोदी ने जीतनराम मांझी को रिमोट पर नचाया था लेकिन नीतीश कुमार ने सबकुछ भांप लिया था और करारा जबाब दिया था. नीतीश कुमार के पास शासन चलाने का एक लंबा अनुभव है और अपने अनुभव से वो प्रशासन की हर प्रणाली से वाक़िफ़ हैं. सुशील मोदी जी, बिहार की जनता ने नीतीश कुमार को ‘अक्षयदान’ दिया है. इसका मतलब ये होता है कभी नही मिटने वाला.

भाजपा नेता पर हमला करते हुए संजय सिंह ने कहा कि बिहार विधान सभा चुनाव में सुशील मोदी ने अपने आप को सीएम के तौर पर पेश किया था. सपने सजाए थे कि वो सीएम बनेगें लेकिन भाजपा ने सुशील मोदी को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार नही बनाया. फिर बीजेपी ने उन्हे राज्यसभा के लिए भी नही भेजा, इन सभी सदमों से सुशील मोदी उबर नही पाएं हैं. वो राजनैतिक कोमा में चले गए हैं. सुशील मोदी तो अपने लिए हांफ रहे है और दुसरे पर नजर रखे हुए हैं.

जदयू नेता ने आगे कहा कि सुशील मोदी को ये जान लेना चाहिए कि बिहार के महागठबंधन सरकार में सबको बोलने और सुझाव देने का बराबर अधिकार है. बिहार की सरकार में लोकतंत्र बहाल है. यहां खास लोगों से लेकर आम जनता से भी सुझाव लिया जाता है, तब जाकर कोई निर्णय लिया जाता है. और उसके अनुरुप योजना बनती है, फिर लागू किया जाता है. सुशील मोदी जी, केंद्र की सरकार में तो ऐसा बिलकुल नहीं है. वहां आम जनता की कौन पुछे, अपने सहयोगी दलों के मंत्रियों से भी सीधे मुंह कोई बात नही करता है.

यह भी पढ़ें :
बैलेट से चुनाव के विरोध में जदयू, राजद ने कहा – विचार होना चाहिए
विशेष पैकेज पर JDU ने उठाए सवाल, BJP बोली- सेहत के लिए अच्छा नहीं
‘लालू के खिलाफ खुद नीतीश सुप्रीम कोर्ट तक गए थे…अब बचाव कर रहे हैं’