‘भाजपा जब बिहार में आपराधिक चरित्र के लोगों को टिकट बांट रही थी,तब कहां थे मोदी’

पटना : जदयू के विधान पार्षद-सह-प्रवक्ता संजय सिंह ने आज सोमवार को भाजपा पर जोरदार पलटवार किया है. बीते कई दिनों से डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के इस्तीफे को लेकर आलोचना झेल रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बचाव करते हुए उन्होंने कहा है कि इस शासन काल में जो भी भ्रष्टाचारी हैं जिन्होने गलती की है, वो चाहे कितने भी ओहदेदार हों, सरकार ने उन्हे नही बख्शा है. वहीँ सुशील मोदी को अपनी पार्टी के बारे में जानकारी होनी चाहिए. बिहार भाजपा में 64 फीसदी विधायक अपराधी है यानी भाजपा के कुल 53 विधायकों में से 34 आपराधिक पृष्ठभूमि वाले हैं.

संजय सिंह यहीं नहीं रुके. आगे भाजपा नेता सुशील मोदी पर बरसते हुए उन्होंने कहा कि जब ये अपराधिक चरित्र वाले विधायक भाजपा से टिकट पा रहे थे, तो क्या सुशील मोदी कान में तेल डाल कर सो रहे थे? सुशील मोदी में हिम्मत है तो वो अपने दल के आपराधिक विधायकों का इतिहास बताएं. राजनीति में शुचिता का शोर मचाने वाली भाजपा को अपनों का काला कारनामा नहीं दिख रहा है. दागी के मुद्दे पर बयानबाजी से पहले सुशील मोदी को अपना ईमानदार आत्मनिरीक्षण करना चाहिए.

आगे भाजपा पर तंज कसते हुए सिंह ने कहा कि भाजपा वाकई पार्टी विथ डिफरेंस है, क्योंकि दागियों और दूसरी पार्टी से निकाले गए दागियों को पार्टी में शामिल करने में यह सबसे आगे है. सुशील मोदी को अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, यदुरप्पा, वसुंधरा राजे, शिवराज सिंह चौहान, रमन सिंह, सुषमा स्वराज, पंकजा मुंडे, रेड्डी बंधू के बारे में भी विस्तार से बताना चाहिए. ये बीजेपी के वो रत्न है जो अक्सर घोटाला करने के लिए बेताब रहते हैं.

सिंह ने कहा कि सुशील मोदी जी, इन सबके खिलाफ बीजेपी ने जांच क्यों नही कराई? कहते है ना, जब सैयां भये कोतवाल तो डर काहे का, यही हाल भाजपा के इन भ्रष्टाचारियों के साथ है. जब पूरी जांच एजेंसी पर इन्हीं का कब्ज़ा तो फिर इन्हें दोषी कौन करार देगा? मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रशंसक से अवसरवादी आलोचक बने सुशील मोदी को उनके नेतृत्व में विकसित हो रही नई राजनीतिक संस्कृति से सीख लेने की जरूरत है.

यह भी पढ़ें –
पोलिटिकल कोहराम से दूर दिखने की कोशिश में लगे नीतीश, काम निपटा रहे हैं
लालू-तेजस्‍वी बाद में : CBI पहले लपेटे में लेगा चाणक्‍या होटल के कोचर ब्रदर्स को
टशन ख़त्म हुआ क्या ! तेज प्रताप खाने बैठे हैं सत्तू-प्याज
राजबल्लभ को जेल में ‘भोज’ कराने वाले जेलर को जबरिया रिटायर कराया गया