दिल्ली में करारी हार के बाद अब बिहार में JDU का नया प्लान !

लाइव सिटीज डेस्क/पटना(नियाज आलम) : ऐसा लगता है कि दिल्ली नगर निगम चुनाव में जीरो पर आउट होने के बाद जदयू को बिहार में भी डर सताने लगा है. शायद यही वजह है कि पार्टी ने सभी  पंचायत और वार्ड में 25 सक्रिय सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है. जिसे अब 5 जून तक पूरा करना है. यह लक्ष्य 2 अप्रैल से पहले पूरा होना था.

बिहार प्रदेश जनता दल (यू) के प्रवक्ता नीरज कुमार, प्रदेश महासचिव डॉ नवीन कुमार आर्य एवं अनिल कुमार ने गुरुवार को एक संयुक्त प्रेसवार्ता में पार्टी के कार्य-कलापों की जानकारी देते हुए बताया कि पार्टी द्वारा 2 अप्रैल 2017 से पंचायत वार बैठक किये जाने के निर्देष के बाद दिनांक 2 से 17 अप्रैल तक पंचायत कार्यकारिणी की बैठक संपन्न करा ली जाएगी. साथ ही जिन पंचायतों में सदस्यों की संख्या में कमी थी वहां सदस्यता लक्ष्य पूरा करने का कार्य 5 जून 2017 तक संपन्न करा लेने का निर्देश दिया गया.

पार्टी की सक्रिय गतिविधियों के लिए पार्टी को एक्टिव रखने के लिए तय एजेंडों के अनुसार स्थानीय स्तर पर कार्यक्रम आयोजित करने का भी निर्देश दिया गया है. उन्होंने यह भी बताया कि बिहार प्रदेश जनता दल (यू) के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के निर्देश पर पार्टी के सांगठनिक 51 जिले में जिला कार्यकारिणी की बैठक 24-26 फरवरी के बीच संपन्न हुई. इसके बाद पूरे प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों में प्रखंड कार्यकारिणी एवं शहरी क्षेत्र के नगर निगम में गठित सेक्टर कार्यकारिणी की बैठक 15 से 25 मार्च तक आयोजित की गई.

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के निर्देश पर सांगठनिक जिला प्रभारी ने जिला कार्यकारिणी की बैठक में एवं जिला पार्टी अध्यक्ष के निर्देश पर प्रखंड एवं सेक्टर के कार्यकारिणी की बैठक में प्रखंड प्रभारी एवं सेक्टर प्रभारी ने भाग लिया. कार्यकारिणी की बैठक में तय किया गया कि प्रत्येक पंचायत अथवा वार्ड में 25 सक्रिय सदस्य को बनाया जाना एवं सांगठनिक जिम्मेदारी से सदस्य को लैस किया जाना है.

बता दें कि सात निश्चय कार्यक्रम की सफलता, प्रचार प्रसार एवं संबंधित योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी देना. दूसरी तरफ जदयू को राष्ट्रीय स्तर पर ले जाने की कोशिश को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कभी न पूरा होने वाला सपना करार दिया है. उन्होंने कहा कि सपना पूरा होना तो दूर जहां से सपना देखना शुरु किया है, वहां से आगे भी नहीं बढ़ेगा.

यह भी पढ़ें-

सुमो अटैकः प्रॉपर्टी लेकर लालू प्रसाद ने बनाये मंत्री        

सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा- एक्ट में बिना संशोधन नियुक्त हो लोकपाल