जदयू का राजद पर हमला, ‘संपत्ति का खुलासा करें लालू प्रसाद’

लाइव सिटीज डेस्क : शुक्रवार की सुबह दिन सामान्य ही था, लेकिन अचानक सियासी माहौल में गर्मी आ गई है. जदयू के प्रवक्ताओं ने अलसुबह ही महागठबंधन में सहयोगी पार्टी राजद के खिलाफ जुबानी हमला तेज कर दिया. गौरतलब है कि जदयू ने उप—मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को क​थित बेनामी संपत्ति और खुद पर लगे आरोपों की सफाई के लिए कहा है. लेकिन राजद इस बात को साफ कर चुका है कि तेजस्वी यादव इस्तीफा नहीं देंगे. इस जुबानी जंग ने जदयू और राजद के रिश्ते को बेहद नाजुक मोड़ पर पहुंचा दिया है.


जुबानी हमले की शुरूआत सबसे पहले जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने की. इससे एक दिन राजद ने संख्याबल का जोर दिखाते हुए कहा था कि हम नहीं झुकेंगे क्योंकि हमारे पास 80 विधायक हैं. इसी बात पर संजय सिंह ने राजद पर हमला बोलते हुए कहा कि,’ आरजेडी को अहंकार नहीं करना चाहिए. चुनाव नीतीश के चेहरे पर ही लड़ा गया था. महागठबंधन को मिला जनसमर्थन नीतीश कुमार के विकास को मिला हुआ जनसमर्थन है.’

जुबानी जंग यहीं नहीं थमी. इसके बाद अगला हमला जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने वह कहा जो महागठबंधन में रहते हुए जदयू ने कभी नहीं कहा था. नीरज कुमार ने सीधा हमला राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पर किया. नीरज कुमार ने कहा कि,’ विपक्ष को हमले का मौका लालू प्रसाद जी ने खुद दिया है. चाहें मॉल का मामला हो या फिर फ्लैट और बाकी संपत्तियों का, लालू प्रसाद को तुरंत सारे कागज दिखा देने चाहिए थे. उन्हें चाहिए कि अपनी सभी संपत्तियों का खुलासा करके विपक्ष को जवाब देना चाहिए.’

NEERAJ-JDU

इसके बाद हमले की कमान जदयू प्रवक्ता अजय आलोक ने संभाल ली. अजय आलोक ने साफ कहा कि, गठबंधन चलाने की जिम्मेदारी सिर्फ हमारी ही नहीं, हमारे सहयोगी दल की है. उन्हें अपने विधायकों को अपनी सीमा का ज्ञान करवाना चाहिए. नीतीश जी का चेहरा विकास का चेहरा है, कोई भी हमारे नैतिक बल को चुनौती देने का साहस नहीं कर सकता है. उन्हें सीबीआई एफआईआर पर अपनी स्थिति साफ करनी चाहिए.’

बताते चलें कि इससे पहले राजद विधायक भाई वीरेन्द्र ने कहा था कि हमारे पास 80 विधायकों का समर्थन है और हम महागठबंधन में बड़े भाई की भूमिका मेें हैं. हमारे नेता तेजस्वी यादव हैं और वह इस्तीफा नहीं देंगे.’ इसी बात को लेकर राजद और जदयू आपस में ही जुबानी जंग में उलझ गए हैं. बता दें कि सीबीआई और ईडी लगातार राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को निशाने पर लिए हुए है. इसके अलावा सीबीआई ने बेनामी संपत्ति मामले में उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर भी रिपोर्ट दर्ज की है.

इसी के बाद जदयू ने तेजस्वी यादव से सफाई देने के लिए कहा था.