बहुत कुछ साफ़ कर रहे हैं जदयू के ये पोस्टर…

KOVIND

पटना : आगामी राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बिहार में महागठबंधन के सहयोगी जदयू और राजद के बीच की तकरार अभी भी जारी है. हालांकि दोनों दलों के शीर्ष नेताओं ने महागठबंधन में किसी संभावित टूट से इनकार किया है साथ ही अपने-अपने प्रवक्ताओं-नेताओं की क्लास भी लगायी है. राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने भी बुधवार को साफ़ कहा है कि महागठबंधन में कोई मतभेद नहीं है.

इस बीच राजधानी पटना में जदयू की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के समर्थन में लगाए गए पोस्टर चर्चा में हैं. जदयू ने भाजपा समर्थित प्रत्‍याशी रामनाथ कोविंद को समर्थन देने का एलान किया है. इसी बात पर जदयू और अन्य विपक्षी दलों के बीच तनातनी बढ़ी हुई है.

KOVIND

राजधानी पटना में मंगलवार से ही कई जगहों पर अलग-अलग जदयू नेताओं के द्वारा रामनाथ कोविंद को समर्थन देते पोस्‍टर व बैनर लगाए गए हैं. इस पोस्‍टरों में नीतीश कुमार को विकास पुरुष बताते हुए रामनाथ कोविंद को समर्थन देने के उनके ‘ऐतिहासिक फैसले’ के लिए उन्‍हें बधाई दी गई है.

जदयू द्वारा लगाए गए इन पोस्टरों में लिखे गए ‘ऐतिहासिक फैसले’ से लालू प्रसाद के ‘ऐतिहासिक भूल’ वाले बयान की याद आती है. विपक्ष द्वारा दिल्ली में राष्ट्रपति पद के लिए मीरा कुमार के नाम के एलान के बाद लालू प्रसाद ने मीडिया से कहा था कि वो नीतीश कुमार से बार-बार मीरा कुमार को समर्थन देने की अपील करते हैं. लालू ने यह भी कहा कि नीतीश कुमार, रामनाथ कोविंद को समर्थन देकर ‘ऐतिहासिक भूल’ न करें.

फिलहाल पिछले दो दिनों में आये नीतीश कुमार और लालू प्रसाद के बयानों से तो लग रहा है कि दोनों पार्टियों के बीच के रिश्ते सामान्य हैं. लेकिन इसी दौरान जदयू नेताओं द्वारा लगाए गए पोस्टर-बैनर बहुत कुछ कह रहे हैं.

यह भी पढ़ें –
महागठबंधन में भेद नहीं, सब मीडिया की साजिश : लालू
‘लालू की हिम्मत ही थी कि BPL और खलासी तक से करोड़ों की जमीन लिखवा ली’
बयानबाजी से नीतीश नाराज, लगाई प्रवक्ताओं की क्लास