लालू बोले – BJP एंटी दलित पार्टी, मायावती को हम भेजेंगे राज्य सभा

फाइल फोटो

पटना : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने बसपा प्रमुख मायावती के इस्तीफे के मुद्दे पर उनका समर्थन किया है. लालू प्रसाद ने कहा है कि अगर मायावती चाहेंगी तो उन्हें मैं राज्य सभा में भेजूंगा. बसपा प्रमुख मायावती को आज मंगलवार 18 जुलाई को सदन में बोलने से रोका गया था. मायावती ने तब राज्य सभा में ही कहा था – “लानत है. अगर मैं अपने पिछड़े वर्ग की बात सदन में नहीं रख सकती, तो मुझे सदन में रहने का अधिकार नहीं है.”

मंगलवार शाम को ही मायावती के इस इस्तीफे पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने समाचार एजेंसी ANI से कहा कि वो मायावती अपना पूरा समर्थन देते हैं. अगर वो चाहेंगी तो हम उन्हें फिर से राज्य सभा में भेजेंगे. लालू ने इसके साथ ही उस वक़्त सदन में मौजूद भाजपा मंत्रियों खासकर मुख्तार अब्बास नकवी की तीखी आलोचना भी की. उन्होंने कहा कि मायावती के खिलाफ भाजपा के मंत्रियों का व्यवहार यह बताने के लिए काफी है कि भाजपा एंटी दलित पार्टी है.

 

माना जा रहा है कि मायावती का इस्तीफा देश में विपक्षी दलों की आवाज को और तेज करेगा. कहा जा रहा है कि इधर के दिनों में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद लगातार मायावती के संपर्क में हैं. वे अखिलेश यादव और मायावती को साथ लाना चाह रहे हैं. मायावती 27 अगस्त को पटना में लालू प्रसाद की रैली ‘भाजपा भगाओ, देश बचाओ’ में भी शामिल होने को आ रही हैं.

बता दें कि मायावती के सदन से चले जाने के बाद भाजपा नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने तंज कसते हुए कहा था कि माया इसलिए सदन का बहिष्कार कर रही हैं, क्योंकि वो अपनी हार से हताश हैं. पर इसके कुछ घंटे बाद ही मायावती ने राज्यसभा से इस्तीफे की घोषणा कर देश में बड़ा भूचाल ला दिया. इस्तीफे के बाद राज्यसभा के सभापति को तय करना होगा कि वे इसे स्वीकारते हैं कि नहीं. अभी राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी हैं. मायावती के राज्यसभा कार्यकाल का अभी एक साल और बचा हुआ था.

यह भी पढ़ें –
मायावती ने राज्यसभा से दिया इस्तीफा, बोलने से रोका गया था
लालू-तेजस्‍वी बाद में : CBI पहले लपेटे में लेगा चाणक्‍या होटल के कोचर ब्रदर्स को
EXCLUSIVE : जेल में बंद राजबल्लभ यादव दे रहा है महिला डीएसपी को धमकी