लालू बोले – हमेशा प्रेस की स्वतंत्रता का पक्षधर रहा हूं, लेकिन…

lalu
सीबीआई कोर्ट में पेश होने से पहले रांची के सर्किट हाउस में ठहरे थे लालू प्रसाद.

पटना : राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने बुधवार को हुई एक चैनल के रिपोर्टर से कहासुनी की घटना को लेकर जवाब दिया है. उन्होंने कहा कि वो मीडिया की वजह से नहीं है, बल्कि मीडिया लालू की वजह है. लालू ने खुद पर हमलावर मीडियाकर्मियों पर पलटवार करते हुए कह कि उन्हें मेरा शुक्रगुज़ार होना चाहिए जो बेरोज़गारी के दौर में मैंने उन्हें रोज़ी-रोटी दे रखी है.

लालू प्रसाद ने गुरुवार को ट्वीटर के माध्यम से अपनी बात कही. इस बारे में एक ट्वीट के जवाब में उन्होंने कहा कि इनके रवैये से ज्यादा भरोसा ख़ुद के लोकतांत्रिक व्यवहार पर है. लालू ने आगे कहा कि मैं हमेशा प्रेस की स्वतंत्रता का पक्षधर रहा हूं. पत्रकारिता गुंडई मे तब्दील हो रही है.

गौरतलब है कि बुधवार को लालू प्रसाद दिल्ली में थे. वहां मीडिया से बात करने के क्रम में लालू प्रसाद और रिपब्लिक चैनल के रिपोर्टर के बीच बहस हो गई. इस घटना के बाद सोशल मीडिया में ख़ासा हंगामा देखने को मिल रहा है. लालू के समर्थक रिपब्लिक को भाजपा समर्थित चैनल बताते हुए हमलावर हैं तो दूसरी और रिपब्लिक के समर्थक इसे प्रेस की आजादी पर हमला बता रहे हैं.

लालू प्रसाद के बेटे व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने भी गुरुवार को एक फेसबुक पोस्ट लिखा है. अपने पोस्ट में तेजस्वी ने मीडिया के उस वर्ग को जमकर खरीखोटी सुनाई है जो लालू प्रसाद पर लगातार हमलावर रहते हैं. उन्होंने लिखा कि – बिहार में ना जाने कितने पत्रकारों की नौकरी ही लालू जी के नाम पर चल रही है. तेजस्वी ने आगे लिखा कि लालू जी और उनके परिवार से मीडिया घरानों व उनके ‘कॉरपोरेट’ कर्मियों का विशेष लगाव किसी से छुपा नहीं है. यह उसी प्रकार का लगाव है जिस तरह का भाजपा का लगाव है लालू जी से. दुःखती नब्ज़ वाला अहसास! ना पसन्द किया जाए और ना नज़रअंदाज़ किया जाए! सौतेला व्यवहार बताना, इसे कमतर करने के बराबर माना जाएगा.

यह भी पढ़ें –
लालू पहुंचे रांची, चारा घोटाला मामले में CBI कोर्ट में कल होगी पेशी
‘अपने पेशे को क्यों नुक़सान पहुंचा रहे हैं, लालू का ना कुछ बिगड़ा है ना बिगड़ेगा’