लालू बोले : जेल में बंद अमित शाह से फोन पर बात करते थे नरेंद्र मोदी

lalu

पटना : राजद सुप्रीमो अब आक्रामक मूड में आ गए हैं. इनकम टैक्स की रेड के बारे में कोई आधिकारिक पुष्टि न होने के बाद लालू अब केंद्र की भाजपा सरकार के साथ-साथ मीडिया पर भी भड़क रहे हैं. शुक्रवार को उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर अमित शाह तक पर भी भड़ास निकाली. इस दौरान उन्होंने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि अमित शाह जब जेल में थे तो मोदी उनसे फोन पर बात करते थे.



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमित शाह के जेल में रहने के दौरान फोन पर बात करने के मुद्दे पर घेरते हुए लालू प्रसाद ने कहा कि मोदी देश का बंटवारा चाहते हैं. लेकिन अभी हम ज़िंदा हैं, ऐसा होने नहीं देंगे. उन्होंने साथ ही अपने अगले ट्वीट में कहा कि मोदी सरकार रूपी लंका को भस्म कर दूँगा. ये झाँसो के राजा है. हमारे बाप-दादाओं को भी ये लोग गाली देते थे. समझ लो, मैं डरने वालों मे से नहीं हूँ.

lalu

इसके बाद राजद प्रमुख ने अपने अगले ट्वीट में एक ग्रामीण कहावत के माध्यम से भाजपा पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि अचक डोले..कचक डोले..खैरा-पीपल कभी ना डोले. मतलब मुझे कोई डिगा नहीं सकता. अंगद की तरह पैर गाड़ के खड़ा हूँ. BJP को चैन से नहीं रहने दूँगा.

लालू प्रसाद ने आगे पत्रकार सुमित अवस्थी के एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए मीडिया पर भी सवाल उठाये. उन्होंने कहा कि छापा, छापा, छापा, छापा, छापा, किसका छापा? किसको छापा? छापा तो हम मारेंगे 2019 में. मैं दूसरों का हौसला डिगाता हूँ, मेरा कौन डिगाएगा?

आइटी रेड पर बोले लालू, 22 ठिकानों के नाम तो बताओ, मीडिया पर भी साधा निशाना

इससे पहले लालू प्रसाद ने शुक्रवार को एक चैनल से बात करते हुए वही सवाल उठाया कि आखिर मेरे 22 ठिकाने कौन कौन से हैं, जहां इनकम टैक्स ने छापा मारा. रेड से संबंधित नोटिस तो मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि मीडिया ने हमारी इमेज को डैमेज करने का काम किया है. लालू प्रसाद ने कहा कि दरअसल भाजपा की ओर से मेरी छवि को खराब करने की कोशिश की जा रही है. सबको मालूम हो गया कि हमें घेरने की कोशिश की जा रही है.

इसे भी पढ़ें :

देखें Notification : जानें क्यों रोका गया लालू एंड फैमिली के मॉल के कंस्ट्रक्शन को

लालू एंड फैमिली के मॉल के निर्माण पर केंद्र सरकार ने लगाई रोक

वह सब कुछ, जो आप जानना चाहते हैं लालू प्रसाद से जुड़े IT रेड के बारे में