किसानों को राहत : अब ऋण के ब्याज पर 5% की छूट !

लाइव सिटीज डेस्क :  देश में दिन-पर दिन बिगड़ रहे किसानों के हालात पर केंद्र सरकार ने थोड़ा मरहम लगाने का काम शुरू किया है.  मोदी सरकार ने किसानों के हित में एक बड़ा फैसला लिया है जिसके तहत अब किसानों को कर्ज के ब्याज पर ज्यादा छूट मिलेगी.केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में फसली ऋण पर ब्याज सहायता जारी रखने का यह फैसला ऐसे समय में किया गया है, जब मध्य प्रदेश और महाराष्टू हित देश के कई हिस्सों में कर्ज माफी के लिए किसान आंदोलन कर रहे हैं. इससे पहले, उत्तर प्रदेश और महाराष्टू की राज्य सरकारें पहले ही छोटे किसानों के कर्ज माफ करने की घोषणा कर चुकी हैं. 

सरकार के इस फैसले का सीधा फायदा उन किसानों को मिलेगा जो एक साल में कर्ज को चुकाएंगे. कैबिनेट की बुधवार को हुई बैठक में ब्याज में छूट की दर तीन फीसद से बढ़ाकर पांच फीसद कर दी गई है. मोदी सरकार के इस फैसले के तहत किसानों को कर्ज के ब्याज पर अब पहले के मुकाबले ज्यादा छूट मिलेगी. किसानों को तीन लाख तक के ऋण पर ब्याज में यह छूट मिलेगी. इसका फायदा उन्हीं किसानों को मिलेगा जो एक साल में ऋण चुकता करेंगे. कैबिनेट के इस फैसले से केंद्र पर 19 हजार करोड़ रुपए का अतिरिक्त भार पड़ेगा.

केंद्र सरकार की इस योजना के तहत तीन लाख रुपये तक के अल्पकालिक कृषि ऋण पर बैंकों को दो प्रतिशत ब्याज सहायता उपलब्ध कराई जाती है. इस सहायता के बाद बैंकों को यह कर्ज सात प्रतिशत की सालाना ब्याज दर पर उपलब्ध कराना होता है. इसके साथ ही इस कर्ज का सही समय पर भुगतान करने वाले किसानों को तीन प्रतिशत की अतिरिक्त ब्याज सहायता भी उपलब्ध कराई जाती है. इस सहायता के बाद किसानों को यह कर्ज चार प्रतिशत सालाना दर पर उलपब्ध होता है. चालू वित्त वर्ष के लिए कृषि ऋण का लक्ष्य इससे पिछले वर्ष के नौ लाख रुपये से बढ़ाकर दस लाख रुपये किया गया है.

यह भी पढ़ें-  केंद्र किसानों को दे रहा लाभ, राज्य सरकार भी करें उनकी चिंता : सुशील मोदी