नीतीश को समर्थन देने को तैयार है बीजेपी : नित्यानंद राय

NITYANAND-RAI
नित्यानंद राय (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क: बिहार की राजनीति में लालू प्रसाद और नीतीश कुमार का रिश्ता कल किस करवट बैठेगा, इसका कोई अनुमान लगा नहीं सकता है. इस अनिश्चितता पर बिहार बीजेपी अध्यक्ष नित्यानंद राय ने बड़ा बयान दिया है. नित्यानंद राय ने कहा है कि बीजेपी नीतीश को बाहर से समर्थन दे सकती है. मतलब साफ है कि बीजेपी चाहती है कि लालू प्रसाद के समर्थन की परवाह नीतीश कुमार न करें. नीतीश तेजस्वी को बर्खास्त करें इसके बाद अगर सरकार पर संकट आएगा तो बीजेपी बचा लेगी.

नित्यानंद राय ने कहा, ”अगर किसी व्यक्ति ने अघोषित संपत्ति अर्जित की है तो ऐसे व्यक्ति तो मंत्रिमंडल में नहीं रखना चाहिए. अगर समर्थन की जरूरत पड़ती है तो हम समर्थन बाहर से समर्थन देने के लिए तैयार हैं लेकिन सरकार में शामिल नहीं होंगे.”

लालू प्रसाद ने बुलाई थी विधायकों की बैठक

राजद सुप्रीमो ने सोमवार को पार्टी के विधायकों के साथ पटना स्थित अपने आवास पर बैठक की थी. बैठक के बाद आरजेडी ने दो टूक कहा कि तेजस्वी बिहार के उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा नहीं देंगे.

कल नीतीश कुमार ने बुलाई बड़ी बैठक

कल नीतीश कुमार भी बड़े नेताओं और जिलाध्यक्षों के साथ बैठक करने वाले हैं. इस बैठक के एजेंडे के बारे में कोई भी मुंह खोलने के लिए तैयार नहीं है. हालांकि मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि इस बैठक में बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के साथ पार्टी को एकजुट दिखाने की कोशिश होगी.

NITYANAND-RAI

बिहार में क्या है सरकार का समीकरण?

बिहार में विधानसभा की 243 सीटें हैं. जबकि सरकार बनाने के लिए 122 सीटें चाहिए. बिहार में जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस का महागठबंधन है. महागठबंधन के पास राज्य में जेडीयू की 71, आरजेडी की 80 और कांग्रेस की 27 विधायकों को मिलाकर 178 सीटें हैं. अगर नीतीश महागठबंधन का साथ छोड़कर एनडीए में शामिल होते हैं तो जेडीयू की 71, बीजेपी की 53, आरएलएसपी और एलजेपी की 2-2 और हम की एक सीट को मिलाकर आंकड़ा 129 हो जाएगा जो बहुमत से सात ज्यादा है.