नदी-तालाब किनारे लोग नहीं मना पाएंगे छठ, केजरीवाल सरकार ने लगाई रोक; रामलीला पर लिया यह फैसला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : दिल्ली में इस साल भी परवैतिन नदी या तालाब किनारे लोकआस्था के महापर्व छठ को नहीं मना सकेंगे. सार्वजनिक जगहों पर छठ मनाने से दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने रोक लगा दी है. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने कोरोना महामारी के देखते हुए सार्वजनिक जगहों पर छठ पूजा सहित अन्य आयोजनों पर रोक लगा दी है.

डीडीएमए ने इस संबंध में गुरुवार को आदेश जारी कर दिया. उसने अपने आदेश में कहा है कि सार्वजनिक स्थानों, ग्राउंड, मंदिर और घाटों पर छठ पूजा आयोजित करने पर रोक लगाई जाती है. लोग अपने घरों मेें ही छठ पूजा को मनाएं. इसके अलावा इस फेस्टिव सीजन में मेले, फूड स्टॉल, झूला, रैली, जूलूस आदि की भी अनुमति नहीं होगी. यह आदेश 15 नवंबर तक लागू रहेंगे.

गौरतलब है कि इस साल लोकआस्था का महापर्व छठ 8 नवंबर से शुरू होगा. डीडीएमए ने कहा कि कोरोना संकट को देखते हुए यह फैसला लिया गया है. वहीं, डीडीएमए ने दिल्ली में होने वाले रामलीला आयोजन को लेकर भी आदेश जारी किया है. आदेश के अनुसार, रामलीला का आयोजन तो होगा, लेकिन उसके लिए कड़ी शर्त रहेगी.