लालू बोल रहे – सब कुछ ठीक है, जदयू कह रहा – सवाल नीतीश की छवि का है

lalu-media

पटना : बिहार के सियासी संकट की खींचतान फिर से बढ़ रही है. लालू प्रसाद रांची से पटना लौट आये हैं. वे गठबंधन पर कुछ भी नहीं बोल रहे. बस इतना कह रहे – सब कुछ ठीक है. मीडिया आराम करे. देश पर संकट मंडरा रहा है. उधर देखे. चीन-पाकिस्तान समेत सभी भारत को घेरने में लगे हैं. ऐसे में, और कोई फिजूला बात मत करो.

वैसे सच यह है कि लालू प्रसाद चाहे कुछ न बोलें या फिर सब कुछ ठीक कह दें, पर ऐसा है नहीं. बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष व शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने भी आज शुक्रवार को कहा कि गठबंधन को बचाने का प्रयास चल रहा है. मालूम हो कि लालू प्रसाद और नीतीश कुमार के बीच संवाद की कड़ी अभी चौधरी ही हैं. कांग्रेस के विधान पार्षद दिलीप कुमार चौधरी बोले हैं – जदयू के प्रवक्ताओं के स्टैंड से गठबंधन नहीं चलता. दिलीप चौधरी को लालू प्रसाद का करीबी माना जाता है.

lalu-media

इधर जदयू के प्रवक्ता अजय आलोक और निखिल मंडल अब भी हमलावर बने हैं. कह रहे हैं – सवाल नीतीश कुमार की छवि का है. इससे कोई समझौता नहीं हो सकता. जवाब देना ही होगा. जदयू प्रवक्ताओं के तेवर से यह दिख रहा है कि पिछले दिनों नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच बंद कमरे में जो बातचीत हुई थी, उसमें कोई स्थाई समाधान नहीं निकला था. सो, बात फिर से बिगड़नी शुरू हो गई है. मालूम हो कि कानूनी सलाह लेने को तेजस्वी यादव अभी दिल्ली गए हुए हैं.

इस बीच बिहार सरकार में राजद कोटे के मंत्री विजय प्रकाश ने फिर से स्पष्ट कर दिया है कि तेजस्वी यादव के इस्तीफे का कोई सवाल ही नहीं उठता. पार्टी अपने स्टैंड पर कायम है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी को सब कुछ बताया जा चुका है. गठबंधन को कोई खतरा नहीं है.

यह भी पढ़ें –

बड़ा सवाल – क्या असेंबली में पहले की तरह अगल-बगल में बैठेंगे नीतीश-तेजस्वी