रांची में बरसे लालू : किसान भी मर रहे-जवान भी मर रहे, क्या यही हैं अच्छे दिन?

lalu

पटना/रांची : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने मध्य प्रदेश के मंदसौर और अन्य शहरों में किसान आंदोलन के दौरान हुई हिंसा को लेकर केंद्र सरकार की तीखी आलोचना की है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार किसान विरोधी नीति अपना रही है. ये लोग किसानों की मांगों को लेकर उदासीन है. उन्होंने सवाल किया कि क्या यही भाजपा के अच्‍छे  दिन हैं.

लालू प्रसाद ने गुरुवार को झारखंड की राजधानी रांची में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान ये बातें कहीं हैं. लालू शुक्रवार को चारा घोटाले के मामले में सीबीआई कोर्ट में पेश होने के लिए रांची आये हैं. प्रेस कांफ्रेंस के दौरान लालू ने किसान आत्महत्या सहित बेटी मीसा और NDTV मामले को लेकर भी केंद्र सरकार पर खुलकर हमला किया.

lalu
फाइल फोटो

मीसा पर मामला राजनीति से प्रेरित

लालू प्रसाद ने कहा कि उनकी बेटी राज्यसभा सांसद मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार के खिलाफ आयकर विभाग की कार्रवाई राजनीति से प्रेरित है. उन्होंने बेटी और दामाद शैलेष के खिलाफ लग रहे सभी आरोपों को आधारहीन बताया. उन्होंने कहा कि देश में आपातकाल जैसे हालात बन गए हैं. केंद्र की मोदी सरकार सभी विपक्षी दलों को दबा देना चाहती है.

NDTV सच बोलने वाला चैनल

लालू ने न्यूज़ चैनल न्द्त्व को सच बोलने वाला चैनल बताया और कहा कि चैनल के मालिक प्रणय रॉय के घर सीबीआई की रेड उनकी जबान बंद कराने के लिए की गई थी. मोदी सरकार असहमति की आवाजों को दबाने का काम कर रही है.

हर मोर्चे पर विफल केंद्र

केंद्र सरकार द्वारा अपने तीन साल की उपलब्धियों को बताए जाने पर तंज कसते हुए लालू प्रसाद ने उसे हर मोर्चे पर विफल करार दिया. लालू ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने अपने 56 इंच के सीना का जिक्र करते हुए देश के दुश्‍मनों को सबक सिखाने की बात कही थी. लेकिन, आज सीमा पर हमले हो रहे हैं और सैनिक मारे जा रहे हैं. वो 56 इंच का सीना कहां गया?

क्या कर रहे हैं कृषि मंत्री?

इससे पहले लालू प्रसाद ने गुरुवार को रांची रवाना होने से पहले पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मध्य प्रदेश में किसान मर रहे हैं, लेकिन मोदी के कृषि मंत्री (राधामोहन सिंह) बिहार में क्या कर रहे हैं? वो मोतिहारी में बाबा रामदेव के साथ योग कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें –

लालू को CBI का फेर, तेजप्रताप फिर पहुंचे भगवान कृष्ण की शरण में

लालू को जमीन देने वाले चौधरी की हत्या हो गई क्या, जानना चाहते हैं मोदी