शरद यादव ने किया लालू का बचाव, तो उन्हें 2008 की याद दिलाने लगे सुमो

लाइव सिटीज डेस्क: राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के ठिकानों पर सीबीआई रेड के बाद पहली बार जदयू के किसी नेता का बयान सामने आया है. पार्टी के राज्यसभा सांसद और पूर्व अध्‍यक्ष शरद यादव ने सीबीआई छापेमारी को बदले की कार्रवाई बताया है. लालू प्रसाद का खुलकर बचाव करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन को आगे बढ़ने से रोकना चाहती है. जब से विपक्ष के गठबंधन की बात हो रही है, तभी से बीजेपी के इशारों पर ऐसी कार्रवाई हो रही है.


शरद यादव ने कहा कि मंगलवार को उपराष्‍ट्रपति चुनाव को लेकर होने वाली विपक्षी दलों की बैठक में नीतीश कुमार शामिल नहीं हो सकेंगे. हालांकि उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों की इस बैठक में वो शामिल हो सकते हैं.


उधर, जदयू नेता के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से शरद यादव और ललन सिंह ने उनसे मिलकर बेनामी संपत्ति को लेकर शिकायत की है और अब वो इसे बदले की कार्रवाई बता रहे हैं.

आपको बता दें कि सीबीआई रेड के बाद अभी तक किसी जदयू नेता का बयान नहीं आया है. नीतीश कुमार ने सोमवार को संवाद के कार्यक्रम को रद्द कर दिया वहीं जदयू के प्रवक्ता प्रतिक्रिया देने से बच रहे हैं. सोमवार को पार्टी के नेता वशिष्ठ नारायण सिंह, ललन सिंह और बिजेंद्र प्रसाद यादव ने नीतीश कुमार से उनके आवास पर जाकर मुलाकात की है, लेकिन कुछ भी कहने से इनकार कर दिया.

मंगलवार को जदयू नेताओं की पटना में बैठक है और सबकी इस पार्टी के इस बैठक पर टिकी हुई है.