शत्रु का तंज: बिहार की गिरती शिक्षा व्यवस्था के बीच भी 35% पास, यह सांत्वना की बात

shatrughan-story_647_102515
फाइल फोटो

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट परीक्षा के खराब नतीजे से जहां छात्र-छात्राएं निराश हैं वहीं अब राजनीतिक खेमा भी बिहार सरकार पर हमला बोल रहे हैं. नंदकिशोर यादव और सुशील मोदी के बाद अब भाजपा के बेबाक सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने भी बिहार की शिक्षा वयवस्था पर निराशा जाहिर की है. उन्होंने सोशल मीडिया ट्वीटर पर बिहार बोर्ड के नतीजे को लेकर 3 ट्वीट किये हैं. 

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा है कि बिहार इंटरमीडिएट के नतीजे जानकर गहरा दुःख हुआ है. 65% बच्चे फेल हुए हैं. साइंस में तो 70 फीसदी फेल हुए हैं. यह पूरी तरह से खतरे की घंटी है. उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि  सांत्वना की बात यह है कि बिहार की गिरती शिक्षा व्यवस्था के बावजूद 35 फीसदी बच्चे पास हो गए हैं.

उन्होंने कहा कि सफलता कि इस घड़ी में हम हमारे बच्चे के साथ खड़े हैं. साथ ही जिनके नतीजे खराब हुए हम उनके भी साथ हैं. हम इसी आशा और उम्मीद के साथ प्रार्थना करते हैं कि इस नाकामयाबी से जल्दी उबरते हुए और भी मजबूती और लगन से सामने आयें. उन्होंने बुरे दौर से गुजर रहे छात्रों से अपील की है कि यह कोई जिंदगी की अंतिम परीक्षा नहीं है. जय बिहार… 

शत्रुघ्न सिन्हा का यह ट्वीट जहां बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर चोट करती है. वहीं छात्रों के पास-फेल होने पर उन्हें सांत्वना भी देती है. बता दें कि इससे पहले इस मामले में भाजपा नेता नंदकिशोर यादव ने भी बिहार की गिरती शिक्षा वयवस्था पर हमला बोला था. उन्होंने कहा था कि पिछले साल घपला घोटाला से बिहार की शिक्षा व्यवस्था कलंकित हुई थी. और इस बार खराब रिजल्ट ने पूरी तरह से बिहार के एजुकेशन सिस्टम की पोल खोल दी है. 

वहीं आज बिहार में खराब रिजल्ट से निराश छात्र-छात्राओं ने बोर्ड ऑफिस के पास धरना प्रदर्शन भी किया. बदले में उनपर पुलिस प्रशासन ने लाठियां बरसा दीं. इधर, खराब रिजल्ट के बाद अशोक चौधरी ने भी बड़ी कार्रवाई करने की बात कही है.

यह भी पढ़ें-  नंदकिशोर यादव ने कहा- पहले घपला-घोटाला अब चौपट शिक्षा व्यवस्था से बिहार कलंकित
BIG BREAKING : फर्जी तो है, पर कौन? टॉपर गणेश या समस्‍तीपुर का स्‍कूल, अब जांचे बिहार बोर्ड