भूख हड़ताल से छात्रों की तबियत बिगड़ने के बाद छात्र संगठनों ने किया चक्का जाम

पटना (नियाज़ आलम) : इंटर परिणाम रिजल्ट में गड़बड़ी के आरोप को लेकर छात्र संगठन लगातार प्रदर्शन मोड में हैं. इसी क्रम में बुधवार को 8 वामपंथी छात्र संगठनों ने चक्का जाम का आह्वान किया. इस दौरान तारामंडल के पास बेली रोड को छात्रों ने जाम कर दिया. जाम के कारण यातायात व्यव्स्था बिगड़ने से प्रदर्शनकारियों और वाहन चालकों में भी तूतू-मैंमैं हुई. 

इस दौरान जाम खुलवाने के लिए पहुंची कोतवाली पुलिस और छात्रों के बीच हल्की झ़ड़प हुई. धक्का मुक्की के दौरान एआईएसएफ के राज्य सचिव सुशील कुमार का कंधा उखड़ गया, जिन्हें तुरंत पीएमसीएच ले जाया गया. जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें राजवंशी नगर स्थित हड्डी रोग विशेषज्ञ के पास रेफर कर दिया गया.

छात्रो को आरोप है कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के साथ मारपीट की है. इसी क्रम में सुशील कुमार का हाथ कंधे के पास से टूट गया है. हालांकि कोतवाली थानाध्यक्ष राम शंकर सिंह के मुताबिक प्रगदर्शनकारियों को समझाने बुझाने के दौरान उन्हीं के साथियों ने खींचतान की है. सुशील कुमार का हाथ पहले से भी उखड़ा हुआ था, खींचतान के दौरान वह डिसलोकेट हो गया.

हालांकि छात्राओं ने भी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उनके  मुताबिक पुरुष पुलिसकर्मियों ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया है. पुरुष पुलिसकर्मियों ने छात्राओं  के साथ धक्का मुक्की की है और जबरन उन्हें हटाने की कोशिश की है.

https://youtu.be/Pqf3k614KPg

बता दें कि सोमवार से 8 वामपंथी छात्र संगठनों के नेतृत्व में छात्र इंटर काउंसिल के गेट के बाहर अनिश्चितकालीन  भूख हड़ताल पर बैठे हैं. मंगलवार की रात उनमें से अनशन पर बैठे एआईवाईएफ  के राज्य सचिव रौशन कुमार सिन्हा एवं एआईएसएफ के राजकपूर की हालत बिगड़ गई, जिन्हें गार्डिनर हॉस्पीटल में भर्ती कराया गया. इसी के बाद बुधवार की सुबह छात्र संगठनों ने चक्का जाम का आह्वान किया.

यह भी पढ़ें- इंटर कॉउंसिल के बाहर छात्र संगठनों का भूख हड़ताल शुरू