सुशील मोदी ने नीतीश कुमार से पूछ दिए हैं कुछ ‘असहज’ करने वाले सवाल…

sumo.collage.jpg

पटना : भाजपा नेता सुशील मोदी ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमले जारी रखे हैं. बुधवार को उन्होंने कहा कि नैतिकता और नीति-सिद्धांतों की दुहाई देने वाले नीतीश कुमार ने सत्ता और कुर्सी के लिए कुशासन और भ्रष्टाचार के पर्याय लालू प्रसाद से समझौता कर लिया. जिस व्यक्ति और जिसके आतंक राज के खिलाफ भाजपा के साथ लड़ाई लड़ कर बिहार को मुक्ति दिलाई फिर उसी को गले लगा लिया और अब अपनी कुर्सी बचाने के लिए उसके बचाव में खड़े हैं.

मोदी ने कहा, नीतीश कुमार बतायें कि 1993 में लालू प्रसाद की पार्टी से अलग होकर समता पार्टी क्यों बनाई? शिवानंद तिवारी, ललन सिंह को आगे कर पटना हाईकोर्ट में लालू प्रसाद के खिलाफ याचिका क्यों दाखिल करवाया? लालू प्रसाद को जेल भेजवाने में क्यों अहम भूमिका का निर्वाह किया? आय से अधिक संपति के मामले में लालू प्रसाद के खिलाफ अगली अदालत में चुनौती क्यों दी? 15 साल के ‘आतंक राज’ को खत्म करने के लिए न्याय यात्रा क्यों निकाली?

sumo.collage.jpg

भाजपा नेता ने कहा कि राबड़ी देवी के खिलाफ दायर ललन सिंह के मानहानि के मुकदमे को वापस क्यों करवा दिया? जिसके राज में बिहारी कहलाना शर्म की बात थी, जिसके कुशासन से हजारों व्यवसायी, डॉक्टर व अन्य कारोबारियों को बिहार से पलायन करना पड़ा आखिर उससे हाथ क्यों मिला लिया? लालू प्रसाद को दो साल पहले तक बिहार की बर्बादी का रोड मैप कहने वाले नीतीश कुमार आज उसी लालू प्रसाद के साथ क्यों खड़े हैं?

क्या बिहार और बिहारियों को अपमानित करने वाले का साथ देने के लिए आज नीतीश कुमार बिहारवासियों से माफी मांगेंगे? नीतीश कुमार भले ही आज कांग्रेस और राजद से समझौता कर लें मगर 2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार की जनता उन्हें माफ नहीं करने वाली है.

यह भी पढ़ें :
शेखपुरा : सुकमा के शहीद को मिल गया पैसा, जदयू ने कहा – मामले की होगी जांच
‘जन्नत’ में दहशत के बीच कश्मीरियों को इंजीनियर बना रहे हैं ये बिहारी
‘बिहार में जल्द होगा मिड-टर्म चुनाव, 6 महीने में गिर जाएगी महागठबंधन सरकार’